अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मानसिक विकलांगों को मिलेगा आशियाना

हरियाणा में मानसिक रूप से विकलांग लोगों को आश्रय उपलब्ध कराने के लिए सरकार ने घरौंदा  नामक योजना शरू की है। यह योजना गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन कर रहे विकलांगों के लिए है। इस योजना के लिए राष्ट्रीय न्यास तथा राज्य सरकार की ओर से बजट में बराबर की हिस्सेदारी होगी।

गरीबी रेखा से ऊपर जीवन यापन कर रहे मानसिक विकलांग आठ लाख रुपए की राशि अदा करके इस योजना का लाभ पा सकते हैं। राज्य सरकार ने चालू वित्त वर्ष के दौरान इस योजना के क्रियान्वयन के लिए एक करोड़ रुपए का बजट निर्धारित किया है।

प्रदेश में विकलांगों व बुजुर्गो के विकास एवं उत्थान के लिए सरकार की ओर से जवाहर सामाजिक आधारभूत मिशन नामक योजना भी क्रियान्वित की जा रही है। इसके तहत तीन वर्षो के लिए150 करोड़ रुपए के बजट प्रावधान किया गया है।

विश्व विकलांग दिवस की पूर्व संध्या पर मुख्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह हुड्डा ने बुधवार को यहां जारी बयान में कहा है कि सामाजिक आधारभूत मिशन योजना अपनी तरह की पहली योजना है, जिसके तहत नेत्रहीनों मूक एवं बधिरों तथा अन्य विकलांगों और बुजुर्गों के लिए जिला स्तर पर विशेष स्कूल अथवा संस्थान स्थापित किए जाएंगे।

 मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना के तहत नेत्रहीनों के लिए 10 विद्यालय, मूक एवं बधिरों के लिए 8 विद्यालय, मानसिक विकलांगों के लिए 6 स्कूल तथा तीन राज्य स्तरीय संस्थान, दो आश्रय गृह, वरिष्ठ नागरिकों के लिए 4 आश्रय गृह, 6 बाल गृह और 21 व्यावसायिक शिक्षा एवं प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किए जाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मानसिक विकलांगों को मिलेगा आशियाना