class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चन्द्र ग्रहण से होगा व्यापक बदलाव

पौष शुक्लपक्ष पूर्णिमा पर 31 दिसंबर को लगने वाला खण्ड चन्द्र ग्रहण का प्रभाव पूरे देश में होगा। आम आदमी के साथ ही प्राकृतिक व राजनीतिक क्षेत्र में व्यापक बदलाव होंगे। मध्य रात्रि से शुरू होने वाले इस ग्रहण में सोना पूरी तरह से वजिर्त है। गर्भवती महिलाओं को इस दौरान विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है अन्यथा इसका असर आने वाले बच्चों पर पड़ सकता है।

ज्योतिर्विद डॉ. जय नारायण मिश्र के अनुसार ग्रहण का स्पर्श 31 की रात्रि 12.21 मिनट 42 सेकेण्ड, मध्य 12.52 मिनट 36 सेकेण्ड और मोक्ष 1.23 मिनट 42 सेकेण्ड पर होगा। ग्रहण मिथुन राशि के आद्र्रा नक्षत्र पर लग रहा है। इसमें काली वस्तुओं का दान काफी शुभ होता है। ग्रहण काल में ‘ऊँ चं चन्द्राय नम:’ का 108 बार जप करना लाभप्रद होगा।

आचार्य अमिताभ के अनुसार चन्द्र ग्रहण का वेध (सूतक) 31 दिसंबर को अपराह्न 3.22 बजे से शुरू हो जाएगा। इस दौरान बालक, वृद्ध और अस्वस्थ व्यक्तियों को छोड़कर शेष को भोजन नहीं करना चाहिए। पं. विपिन पाण्डेय के अनुसार चन्द्र ग्रहण से प्राकृतिक व राजनीतिक क्षेत्र में व्यापक बदलाव आएगा।

इस दौरान चंद्रमा मंत्र का जाप करने के साथ ही एक जनवरी की भोर में पवित्र नदी में स्नान के बाद दान-पुण्य करने से इससे होने वाले अनिष्ट से मुक्ति पाई जा सकती है। इसमें राहु को प्रसन्न करने के लिए काला तिल, काला कपड़ा, पैसा आदि का दान करना चाहिए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चन्द्र ग्रहण से होगा व्यापक बदलाव