class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निवेश में समझदारी

अकसर देखने में आता है कि लोग अपने मित्र, रिश्तेदार या किसी परिचित की सलाह के अनुरूप ही निवेश करते हैं, लेकिन इस दौरान लोग अकसर ये भूल जाते हैं कि प्रत्येक व्यक्ति की जोखिम लेने की क्षमता, परिस्थिति और पारिवारिक जिम्मेदारियां अलग होती हैं। ऐसे में बाद में गलत निवेश का पछतावा होता है। इसलिए जरूरी है कि कुछ बुनियादी बातों को समझकर निवेश किया जाए।

विभिन्न तरह के निवेश की परिसंपत्तियों के रिटर्न का तरीका अलग-अलग होता है और ये लोगों के पोर्टफोलियो में अलग-अलग मकसदों को पूरा करती है। नगद, बांड, इक्विटी, रिएल इस्टेट और कमोडिटी जैसे सोना कुछ पॉपुलर कैटेगरी हैं। इन इंस्ट्रुमेंट में निवेश आप अपनी इच्छा और सुविधा के अनुरूप कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर यदि आपका डीमैट अकाउंट है तो आप उसका इस्तेमाल शेयरों की खरीद-फरोख्त में कर सकते हैं।

रणनीति
-जल्दी शुरू करें। यह आपको पूंजी का चक्रवृद्धि प्रदान करने में मदद करेगा।
-निवेश करने के लिए उधार न लें।
-जोखिम के बारे में अनुमान लगा लें। इस बात को समझना होगा कि आप बिना जोखिम लिए ज्यादा धन अर्जित नहीं कर सकते। सभी तरह के निवेश प्रत्येक के लिए मुफीद नहीं होते। ऐसे में अपने लिए बेहतर निवेश का चयन करें।
-हकीकत पहचानें। बाजार की स्थिति के अनुरूप कीमतों के ऊपर-नीचे होते रहने का फर्क कीमतों पर पड़ता है। हमेशा आप ये उम्मीद नहीं कर सकते कि बाजार में 30 प्रतिशत का इजाफा हो।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:निवेश में समझदारी