DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रीटिंग पर पता व पिनकोड सही भरें

आप यदि नए साल की ग्रीटिंग भेज रहे हैं, तो सबसे पहले एक बात का ख्याल रखें कि उसमें पिन कोड अवश्य डालें। यदि ऐसा नहीं करते हैं तो हो सकता है कि आपका ग्रीटिंग अगले साल ही पहुंचे। कारण कि नए साल पर डाक विभाग पर अतिरिक्त भार हो जाता है।

ऐसी हालत में यदि आपके ग्रीटिंग पर पिन कोड नहीं लिखा होता है, तो डाक-कर्मी उसे अलग रख देते हैं। ऐसे में वे सबसे पहले उन डाकों को ही छांटते हैं, जिनमें पिन कोड लिखा होता है। समय मिलने पर ही ऐसी डाकों को छंटनी की जाती है, जिसमें पिन कोड न लिखा हो। डाकघर के अनुसार, नववर्ष में हर साल करीब बीस लाख से अधिक डाक का आवा-गमन नोएडा स्तर से होता है।

नया साल आने वाला है, इसलिए डाक विभाग इसकी तैयारी में जुट गया है। अक्सर यह देखने में आता है कि नए साल के शुभकामना ग्रीटिंग कार्ड नहीं पहुंचा हो तो आदतन पोस्टमैन को जिम्मेदार ठहराया जाता है। ऐसे में जिन्होंने आपके पास ग्रीटिंग कार्ड भेजा है। उन्हें पता बताते समय आपने अपना पिनकोड तो गलत नहीं बता दिया है?

मामूली सा लगने वाला पिनकोड की गलती के कारण एक ही शहर या एनसीआर में ग्रीटिंग एक दिन में न पहुंचकर एक महीने में भी पहुंच पाता है। हो सकता है कि इससे आपका शुभकामनाएं देने का मजा कुछ किरकिरा हो जाए। गलत पिन कोड के कारण हजारों कार्ड यहां-वहां भटक रहे होते हैं।

सेक्टर-19 स्थित मुख्य डाकघर के पोस्टमास्टर आरडी शर्मा का कहना है कि डाक-कर्मियों पर नए साल पर भेजे जाने वाले ग्रीटिंग्स को समय से पहुंचाने का दबाव रहता है। ऐसे में पते के साथ सही पिनकोड न होना सिरदर्दी का सबब बन जाता है।

पोस्ट ऑफिस के कर्मचारियों का कहना है कि अब भी बहुत से लोग ऐसे हैं, जो पता लिखने में लापरवाही बररते हैं। बाद में डाक विभाग को जिम्मेदार ठहराते हैं। लोगों को यह समझना चाहिए कि पते के साथ सही पिनकोड लिखना भी बहुत जरुरी है। तभी समय से उनका संदेश पहुंच सकता है। जिन लोगों ने अभी तक अपना ग्रीटिंग पोस्ट नहीं किया है। वे सही पिनकोड पता नहीं होने पर पोस्ट ऑफिस से जानकारी ले सकते हैं। इससे उनका ग्रीटिंग समय से पहुंच सकता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ग्रीटिंग पर पता व पिनकोड सही भरें