अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

प्राइमरी स्कूल की पढ़ाई राम भरोसे

प्राइमरी में शिक्षा के नाम पर किस तरह खानापूर्ति की जा रही है। कलौंदा वन प्राइमरी स्कूल इसका उदाहरण है। स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को पिछले एक माह से होमवर्क तक नहीं दिया गया है। शिक्षक पढ़ाई में मात्र औपचारिकता पूरी कर रहे हैं। बच्चों की पढ़ाई कैसे चल रही है, इसे देखने की फुरसत शिक्षा विभाग को नहीं है।

कलौंदा स्थित प्राइमरी वन विद्यालय में 52 बच्चों पढ़ते हैं। इनको पढ़ाने के लिए शिक्षक ओमप्रकाश शर्मा तैनात है। मंगलवार दोपहर को इन छात्रों में मात्र 17 बच्चों उपस्थित थे। इन बच्चों की होमवर्क कॉपियां पिछले माह 12 अक्टूबर के बाद से खाली हैं। इतने दिनों से बच्चों को होमवर्क क्यों नहीं दिया जा रहा? स्कूल में मौजूद शिक्षक ओमप्रकाश शर्मा से जब यह पूछा गया, तो वे कुछ भी जवाब नहीं दे पाए।

इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि शिक्षा विभाग द्वारा प्राइमरी शिक्षा के लिए उपचारात्मक शिक्षा (पढ़ाई में कमजोर बच्चों के लिए एक्सट्रा क्लास) से लेकर किए जा रहे तमाम तरह के प्रयास कितने प्रभावी हो रहे हैं? बीएसए धर्मवीर सिंह का कहना है कि इस संबंध में स्कूल में तैनात शिक्षक से पूछताछ की जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:प्राइमरी स्कूल की पढ़ाई राम भरोसे