class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

साइंस के विद्यार्थियों को मिलेगी छात्रवृत्ति

कभी साइंस का जलवा होता था। अब ऐसी स्थिति नहीं रही। छात्रों के प्राथमिकता के हिसाब से यह सब्जेक्ट तीसरे पायदान पर पहुंच गया है। इसमें लगातार घटते रुझान से चिंतित सरकार की नींद टूटी है। इसमें दिलचस्पी बढ़ाने को छात्रवृत्ति की व्यवस्था की जा रही है।

सब्जेक्ट से संबंधित टीचर और लेक्चरर इससे उत्साहित हैं। तीन साल साइंस में ऑनर्स करने के बजाए प्रोफेशनल कोर्स को करियर और भविष्य के लिहाज से छात्र बेहतर मानते हैं। सरकार की बढ़ी गंभीरता से आने वाले समय में इनके सोचने के ढंग में बदलाव आने की उम्मीद टीचर बिरादरी कर रही है। चिंताजनक हालत कॉलेजों में चल रहे साइंस स्ट्रीम का है।

पचास फीसदी मार्क्स कट ऑफ के बाद इसमें एडमिशन करना छात्र नहीं चाहते हैं। वर्तमान सत्र के लिए कॉलेजों में सांइस स्ट्रीम में एडमिशन संतोषजनक नहीं रहा। बीसीए और बीबीए साइंस पर भारी पड़ा। सरकार छात्रों को साइंस के लिए प्रोत्साहन राशि देने पर विचार कर रही है। शिक्षाविदें का मानना है कि इससे हालात बदलेंगी। छात्रों की दिलचस्पी भी बढ़ेगी।

कॉमेस्टी ऑनर्स को छोड़ इस बार मेडिकल और नॉन मेडिकल स्ट्रीम में सीटें खाली रही हैं। दिलचस्पी बढ़ाने के लिए साइंस से संबंधित रोजगारपकर कोर्स शुरू किए। इसमें भी छात्रों ने उत्साह नहीं दिखाया। बीसीए, बीकॉम के बाद अधिक मारामारी बीकॉम में मची थी।

इस संबंध में डीएवी कॉलेज के प्रवक्ता अशोक मंगला कहते हैं कि बीएससी में साठ फीसदी से अधिक अंक लाने वालों को 5,000 रुपए हर माह देने की तैयारी हो रही है। बारहवीं स्तर पर यह राशि पांच सौ रुपए होगी।
दिनों-दिन साइंस में घटता रुझान चिंता जनक है। इस बार उम्मीद से काफी कम एडमिशन हुए थे। कोर्स को रोजगारपरक के साथ इस तरह के प्रोत्साहन की व्यवस्था होना जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:साइंस के विद्यार्थियों को मिलेगी छात्रवृत्ति