अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीबीआई की मौजूदगी से बलिया में हड़कम्प

खाद्यान्न घोटाले की सीबीआई जांच का असर बुधवार को देखने को मिला। गिरफ्तारी के डर से घोटाले से संबंधित लोगों ने अपने मोबाइल बंद कर दिये और भूमिगत हो गये। उधर सीबीआई अधिकारियों ने भी अपना ठिकाना बदल दिया था जिससे लोगों को देर शाम तक यह जानकारी नहीं मिल पा रही थी कि अधिकारी जिले में हैं या कहीं चले गये हैं।

खाद्यान्न घोटाले की जांच कर रही सीबीआई टीम चार दिन पहले से ही जिले में मौजूद है। लखनऊ में नौ लोगों की गिरफ्तारी के बाद से यह कयास लगने शुरू हो गये कि सीबीआई अब घोटाले में लिप्त लोगों को पकड़ेगी। सूत्रों की मानें तो सीबीआई के निशाने पर कई अधिकारी व नेता भी हैं। इसके अलावा जिले के विभिन्न क्षेत्रों के  कई कोटेदार और टांसपोर्टर भी हैं जिन्हें अधिकारी कभी भी गिरफ्त में ले सकते हैं।

सीबीआई की कार्रवाई के बाद खाद्यान्न घोटाले से संबंध रखने वाले कई ‘बड़े’ लोगों ने अपना मोबाइल बंद कर दिया है। बताया जाता है अधिकतर लोग जिले से बाहर चले गये हैं ताकि सीबीआई की गिरफ्त से बचा जा सके। उधर सीबीआई अधिकारियों ने भी बुधवार को अपना ठिकाना बदल दिया।

चार दिन पहले आयी सीबीआई की टीम लोक निर्माण विभाग के डाकबंगले में रुकी थी। इसकी जानकारी ज्यादातर लोगों को हो चुकी थी और घोटाले से जुड़े लोग यह पता लगाने का प्रयास करते रहते थे कि अधिकारी किस ओर निकल रहे हैं। शायद इसी वजह से सीबीआई अधिकारियों ने अपना ठिकाना बदल दिया। सूत्रों की मानें तो सीबीआई के अधिकारी किसी बड़ी मछली की तलाश में हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीबीआई की मौजूदगी से बलिया में हड़कम्प