अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

डी बियर्स की एक अरब डालर का राइट इश्यू

दुनिया की सबसे बड़ी हीरा उत्पादक कंपनी डी बियर्स समूह के शेयरधारकों ने राइट इश्यू के जरिये एक अरब डालर की राशि जुटाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इस राशि का इस्तेमाल डी बियर्स द्वारा अपने ऋण को कम करने के लिए किया जाएगा।
   
दुनिया की अन्य हीरा उत्पादक कंपनियों की तरह डी बियर्स पर भी वैश्विक वित्तीय संकट का असर पड़ा है। लोगों द्वारा लग्जरी सामानों पर खर्च घटाने की वजह से हीरों की मांग घटी है। वैश्विक हीरा कारोबार में डी बियर्स की हिस्सेदारी लगभग 40 प्रतिशत की है।

 

 हीरों की मांग में आई कमी के कारण कंपनी ने दक्षिण अफ्रीका, बोस्तवाना तथा कनाडा की अपनी खदानों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया था। इनमें से कुछ साइटों को दोबारा खोल दिया गया है, लेकिन अन्य में अभी उत्पादन ठप है। लंदन में डी बियर्स की प्रवक्ता लायनेट गूल्ड ने एक ईमेल बयान में कहा, डी बियर्स के आंतरिक रिण में कमी तथा इसके पूंजीगत ढांचे में सुधार से कंपनी इस निवेश से नए अवसरों का फायदा उठा पाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:डी बियर्स की एक अरब डालर का राइट इश्यू