class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अभी प्रयोग के तौर पर हो रहा बायोफर्टिलाइजर का प्रयोग

जैविक खेती के लिए कोई छूट नहीं दिए जाने से कुछ प्रगतिशील किसान ही बायोफर्टिलाइजर का प्रयोग कर रहे हैं। कई सालों से दो एकड़ में जैविक तरीके से सब्जी व गेहूँ की खेती कर रहे सैदाबाद क्षेत्र के प्रगतिशील किसान राजेन्द्र मिश्र बताते हैं कि कृषि विभाग द्वारा जैविक खेती के जैविक उर्वरकों पर तो भारी छूट दी जा रही है लेकिन जैविक उत्पाद का अलग से कोई रेट निर्धारित नहीं किया गया है।

इसलिए लोग जैविक खेती करने से कतरा रहे हैं। बायोपेस्टीसाइट ट्राइकोडर्मा की खपत जरूर बढ़ी है। इसका किसान खूब उपयोग कर रहे हैं। किसानों का मानना है कि ट्राइकोडर्मा से उत्पादन भी बढ़ता है और फसल की गुणवत्ता बेहतर होती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अभी प्रयोग के तौर पर हो रहा बायोफर्टिलाइजर का प्रयोग