DA Image
29 सितम्बर, 2020|1:51|IST

अगली स्टोरी

सिब्बल ने की आईआईएम की आलोचना, जांच के आदेश

सिब्बल ने की आईआईएम की आलोचना, जांच के आदेश

मानव संसाधन विकास मंत्री कपिल सिब्बल ने मंगलवार को भारतीय प्रबंधन संस्थानों (आईआईएम) की आलोचना करते हुए कॉमन एडमिशन टेस्ट (कैट) की परीक्षा में हो रही गड़बड़ी के कारणों की जांच के आदेश दिए। सिब्बल ने संवाददाताओं से कहा, ''यह नहीं होना चाहिए। सरकार इससे बहुत चिंतित है।''

उन्होंने बताया कि एक दिसम्बर की सुबह तक तय 45,000 छात्रों में से 8,000 परीक्षा में शामिल नहीं हो सके। यह बहुत बड़ी संख्या है। इस संबंध में आईआईएम से एक रिपोर्ट मांगी गई है।

इधर, पहली बार कम्प्यूटरीकृत हो रहे कॉमन एडमिशन टेस्ट (कैट) की परीक्षा में चौथे दिन मंगलवार को भी समस्याएं जारी रहीं। पिछले तीन दिनों में परीक्षा देने में विफल अभ्यर्थियों ने ढिलाई बरतने के लिए भारतीय प्रबंधन संस्थानों (आईआईएम) को दोषी ठहराया है।

लखनऊ, भोपाल और दिल्ली में कई परीक्षा केंद्रों छात्रों को परेशानी का सामना करना पड़ा। एक कोचिंग संस्थान टाइम के निदेशक उल्हास वैरागकर ने आईएएनएस को बताया, ''दिल्ली, भोपाल और लखनऊ के कई छात्रों ने फोन करके बताया कि वे परीक्षा नहीं दे सके। इनमें कई दूसरी बार परीक्षा देने गए थे।''

लखनऊ के एसएमएस कॉलेज के छात्रों ने कहा कि वे कठिन समय का सामना कर रहे हैं। उनके परीक्षा केंद्रों और समय में बदलाव हुआ और इसके बावजूद यह गारंटी नहीं है कि वे परीक्षा दे पाएंगे।

एक कैट परीक्षार्थी नीरज प्रसाद ने फोन पर बताया कि दो दिन पहले वह कैट परीक्षा के लिए सुबह के सत्र में गए थे। दो घंटे इंतजार के बाद उनको बताया गया कि तकनीकी खराबी के कारण परीक्षा नहीं होगी। देर शाम एसएमएस कॉलेज ने बताया कि परीक्षा दूसरे केंद्र पर होगी। वह सोमवार को भी परीक्षा केंद्र पर गए लेकिन परीक्षा नहीं हुई।

उन्होंने कहा कि पूरे 60 छात्रों के बैच को फिर से परीक्षा का समय दिया गया लेकिन वे अभी तक परीक्षा में सम्मिलित नहीं हो सके हैं।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:सिब्बल ने की आईआईएम की आलोचना, जांच के आदेश