DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीलंका युद्ध में प्रतिबंधित रासायनिक शस्त्रों का प्रयोग

श्रीलंका में ‘नो वार जोन’ में लिबरेशन टाईगर्स आफ तमिल इलम (लिट्टे) के बीच जारी संघर्ष में घायलों का इलाज कर रहे विदेशी डाक्टरों ने इस लड़ाई में प्रतिबंधित रासायनिक हथियारों के प्रयोग का आरोप लगाया है। गौरतलब है कि प्रतिबंधित रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल अंतरराष्ट्रीय कानून के मुताबिक युद्ध अपराध की श्रेणी में आता है। एक मीडिया रिपोर्ट में श्रीलंका के चेद्दीकुलम और वावुनिया युद्धक्षेत्र में तैनात प्रांसीसी डाक्टरों ने बताया कि संघर्ष में घायल हुए लोगों के इलाज के दौरान उनपर अत्यधिक वलनशील सफेद फास्फोरस के प्रयोग के निशान पाए गए हैं। घायल तमिल नागरिकों में कई लोगों के शरीर पर ऐसे दाग पाए गए हैं जैसे सफेद फास्फोरस से जलने के कारण पड़ते हैं। इससे पहले भी श्रीलंका सेना और लिट्टे ने एक दूसरे पर रासायनिक हथियारों के प्रयोग का आरोप लगाते रहे हैं लेकिन इसका कोई प्रमाण नहीं उपलब्ध था। अलबत्ता इस बार रेडक्रास के डाक्टरों के बयानों से पहली बार श्रीलंका में रासायनिक शस्त्रों के इस्तेमाल का खुलासा हुआ है। लेकिन डाक्टरों ने यह नहीं बताया कि फास्फोरस का इस्तेमाल सेना की तरफ से हुआ है अथवा लिट्टे की आेर से। डाक्टरों ने इतना भर ही कहा कि वे सिर्फ इलाज कर रहे हैं, चोटों की व्याख्या नहीं करेंगें। अंतरराष्ट्रीय रेड क्रास सोसाइटी में हथियार मामलों के प्रमुख पीटर हेर्बी के मुताबिक युद्ध के दौरान सफेद फास्फोरस के प्रयोग के कुछ विशेष नियम हैं। जो अंतरराष्ट्रीय कानूनों द्वारा नियंत्रित होते हैं। युद्ध के दौरान सफेद फास्फोरस का नागरिक क्षेत्रों में स्थित सैन्य प्रतिष्ठानों पर प्रयोग वर्जित है। यह सैन्य निशानों पर आग लगाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। संयुक्त राष्ट्र की रिपोटर्ो के मुताबिक पिछले पांच महीने से चल रही कार्रवाई में अब तक 6500 आम नागरिक मारे गए हैं तथा चौदह हजार लोग घायल हुए हैं। अनुमान है कि ‘नो वार जोन’ में अभी भी बीस हजार लोग फंसे हुए हैं जिन्हें लिट्टे मानव ढाल के रूप में इस्तेमाल कर रहा है। संयुक्त राष्ट्र के मुताबिक युद्धक्षेत्र में फंसे लोगों की तादाद 50 हजार तक हो सकती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: श्रीलंका युद्ध में रासायनिक शस्त्रों का प्रयोग