DA Image
26 जनवरी, 2020|10:56|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कैशियर के खिलाफ चार्जशीट दायर

पंजाब नेशनल बैंक, एक्ाीविशन रोड ब्रांच के करंसी चेस्ट से एचडीएफसी बैंक के 7 करोड़ 0 लाख रुपयों के गबन मामले में पुलिस ने सोमवार को आरोपित पीएनबी कैशियर आरके नारायण के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दायर किया। वहीं इस मामले के नामजद आरोपित तथा पीएनबी के तत्कालीन वरीय प्रबंधक शैलेश रांन सिन्हा के अलावा आशीष सिन्हा के खिलाफ जांच कर रही पुलिस टीम ने कोई साक्ष्य नहीं पाया। पुलिस ने इन दोनों को आरोप से मुक्त करते हुए सरकारी गवाह बनाया है। पुलिस का कहना है कि शैलेश ने इस मामले के बाद यानी 22 अक्तूबर को बैंक में योगदान दिया है वहीं आशीष ने इस तरह की हो रही गड़बड़ी के बार में पहले ही बैंक अधिकारियों व पुलिस को सूचित किया था। इस वजह से बैंक के वरीय अधिकारियों ने आशीष को निलंबित भी कर दिया था।ड्ढr ड्ढr इधर पुलिस ने पीएनबी के सर्किल हेड मानविन्दर सिंह व एसके शर्मा करंसी चेस्ट अधिकारी सुबोध प्रसाद व शाएक हुसैन तथा पूर्व वरीय मैनेजर पीके सिकदर को शिकंो में लेने के लिए कार्रवाई तेज कर दी है। टाउन डीएसपी संजय सिंह ने बताया कि एक सप्ताह के भीतर इन सभी फरार आरोपितों को को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस ने अब इनकी संपत्ति की कुर्की के लिए अदालत से वारंट देने का भी अनुरोध किया है। आरोपित बैंक अधिकारियों के घर 21 फरवरी को ही इश्तेहार का तामीला हो चुका है। इसी मामले में पुलिस ने लगभग तीन माह पहले नारायण को पकड़कर जेल भेज दिया था। विदित है कि एचडीएफसी बैंक ने एक सिक्युरिटी एजेंसी के माध्यम से 1सितंबर व 21 अक्तूबर को पीएनबी में कुल 0 करोड़ रुपए जमा कराया था। लेकिन पीएनबी ने 0 करोड़ रुपए जमा करने के एवज में एचडीएफसी की सिक्युरिटी एजेंसी को मात्र 1.70 करोड़ रुपए की ही रिसीविंग दी थी। उसके बाद एचडीएफसी ने आठ नवंबर 2008 को गांधी मैदान थाने में प्राथमिकी दर्ज करायी थी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title: कैशियर के खिलाफ चार्जशीट दायर