दोनों सदनों में भारी हंगामा, दिन भर के लिए स्थगित - दोनों सदनों में भारी हंगामा, दिन भर के लिए स्थगित DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दोनों सदनों में भारी हंगामा, दिन भर के लिए स्थगित

दोनों सदनों में भारी हंगामा, दिन भर के लिए स्थगित

लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट मीडिया में लीक होने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए विपक्षी भाजपा सहित विभिन्न दलों ने सोमवार को लोकसभा में भारी हंगामा किया और रिपोर्ट आज ही सदन में पेश करने की मांग की।

उधर,, सरकार ने आश्वासन दिया कि वह संसद के चालू सत्र में ही रिपोर्ट पेश करेगी। लेकिन विपक्ष के अपनी मांग पर अड़े रहने के कारण सदन की बैठक पहले 12 बजे तक और फिर बाद में भोजनावकाश तक स्थगित कर दिया गया। उसके बाद भी जब सदन में विरोध जारी रहा तो कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दिया गया।

सदन की बैठक शुरू होने पर विपक्ष के नेता लालकष्ण आडवाणी ने आयोग की रिपोर्ट मीडिया में लीक होने पर आपत्ति की और इसे सदन के विशेषाधिकार हनन का मामला बताया।

उन्होंने कहा कि बिना सदन की कार्यवाही आगे बढ़ाए रिपोर्ट पेश की जाए। उन्होंने मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के अंशों का जिक्र करते हुए उसे पूरी तरह झूठा करार दिया और कहा कि जानबूझकर नियोजित तरीके से मीडिया में रिपोर्ट लीक की गई।

आडवाणी ने कहा कि उन्हें अयोध्या आंदोलन से जुड़े़ रहने पर गर्व है और अयोध्या में भव्य राम मंदिर बने, यह उनके जीवन की साध है। उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि वहां जल्द भव्य राम मंदिर बने।

गृह मंत्री पी चिदंबरम ने सदन को आश्वस्त किया कि रिपोर्ट तथा कार्रवाई रिपोर्ट (एटीआर) संसद के चालू सत्र में ही पेश की जाएगी। उन्होंने रिपोर्ट लीक होने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया।


इस मुद्दे को लेकर राज्यसभा में भी सरकार को बाहर से समर्थन दे रही सपा और विपक्षी दलों ने खूब हंगामा किया और गृह मंत्री से तत्काल बयान की मांग की, जिसकी वजह से बैठक शुरू होने के करीब दस मिनट बाद ही दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। उसके बाद जब दोबार सदन की कार्यवाही शुरू हुई, तो फिर से भारी हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।

सदन की बैठक शुरू होते ही सभापति हामिद अंसारी ने कहा कि उन्हें विपक्ष के नेता की ओर से एक नोटिस मिला है, जिसमें प्रश्नकाल स्थगित कर लिब्रहान आयोग की रिपोर्ट लीक होने के मामले पर तत्काल चर्चा कराने की मांग की गई है। उन्होंने कहा कि कार्य मंत्रणा समिति में इस मामले पर चर्चा के लिए सहमति जताई गई है।

उन्होंने विपक्ष के नेता अरूण जेटली से जानना चाहा कि कार्य मंत्रणा समिति की सहमति के बाद, प्रश्नकाल स्थगित करने के लिए नोटिस देने का कारण क्या है। जेटली ने कहा कि लिब्रहान आयोग का प्रतिवेदन केंद्र सरकार और स्वयं आयोग के पास था। यह प्रतिवेदन कार्रवाई रिपोर्ट के साथ संसद में पेश किया जाना चाहिए था, लेकिन इससे पहले ही यह मीडिया को लीक कैसे हो गया। उन्होंने तत्काल गृह मंत्री के बयान की मांग की।

सदन में संसदीय कार्य राज्य मंत्री पृथ्वीराज चव्हाण ने सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि गृह मंत्रालय का इस प्रतिवेदन के लीक होने से कोई लेना देना नहीं है। चव्हाण ने कहा कि सरकार इस बारे में वक्तव्य देने के लिए तैयार है और गृह मंत्री दोपहर बारह बजे इस बारे में बयान देंगे। लेकिन विपक्षी सदस्य नहीं माने और प्रश्नकाल स्थगित कर तत्काल गृह मंत्री के बयान की मांग करने लगे।

जेटली ने एक अंग्रेजी दैनिक का संदर्भ देते हुए कहा कि प्रतिवेदन में कई मुस्लिम नेताओं पर भी टिप्पणी की गई है। सपा के नेता अमर सिंह ने कहा कि संसद का सत्र जारी है और ऐसे में प्रतिवेदन के लीक होने से संसद की गरिमा प्रभावित हुई है।

माकपा के सीताराम येचुरी ने कहा कि इस रिपोर्ट पर संसद में तत्काल चर्चा की जानी चाहिए और इसके लीक होने का कारण भी बताया जाना चाहिए। जेटली ने इस बारे में गृह मंत्री से स्पष्टीकरण देने और कार्रवाई रिपोर्ट सहित लिब्रहान आयोग का प्रतिवेदन सदन में रखने की मांग की।

सभापति ने सदस्यों से बार बार प्रश्नकाल चलने देने की अपील की, लेकिन हंगामा थमते न देख उन्होंने बैठक दोपहर बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:दोनों सदनों में भारी हंगामा, दिन भर के लिए स्थगित