DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

चार जिलों में बढ़ेंगे शिक्षक, नौ में घटेंगे

शिक्षा विभाग ने प्रदेश के सभी जिलों के प्राथमिक स्कूलों के लिए शिक्षकों की संख्या के पुन: निर्धारण का प्रस्ताव शासन को सौंपा है। नए आवंटन में सबसे अधिक शिक्षक पौड़ी जिले में होंगे और दूसरे नंबर पर टिहरी जनपद होगा। चार जिलों में शिक्षकों के 709 पदों की बढ़ोत्तरी होगी।

शासन ने पिछले सितंबर में प्राइमरी स्कूलों में शिक्षकों की संख्या का नए सिरे निर्धारण का आदेश दिया था। शिक्षा निदेशक ने शासन को नई शिक्षक संख्या का प्रस्ताव सौंप दिया है। इसके तहत हरिद्वार में 2222 की बजाय 2639, रुद्रप्रयाग में 1299 के स्थान पर 1149, चमोली में 2434 के स्थान पर 2068 और उत्तरकाशी में 1916 की बजाय 1572 का प्रस्ताव दिया गया है।

देहरादून में इस वक्त 2355 शिक्षक हैं। इनमें 25 की बढ़ोत्तरी संस्तुत की गई। टिहरी में 3503 के स्थान पर 3031, पौड़ी में 4202 की बजाय 3246 और अल्मोड़ा में 3568 के स्थान पर 2947 की संस्तुति की गई है। उधमसिंह नगर के 2578 पदों को बढ़ाकर 2353 और नैनीताल के मौजूदा पदों में 92 की बढ़ोत्तरी करके 2059 करने का प्रपोजल दिया है। पिथौरागढ़, चंपावत और बागेश्वर में क्रमश: 2386, 1071 और 1028 पद प्रस्तावित किए गए हैं।

इन तीनों जिलों में इस वक्त क्रमश: 2656, 1173 और 1601 पद हैं। प्रदेश बनने के बाद पहली बार शिक्षकों के पदों का निर्धारण हुआ है। मौजूदा सत्र के छात्र-पंजीकरण के आधार पर हरिद्वार, देहादून, उधमसिंहनगर और नैनीताल में 709 अतिरिक्त शिक्षकों की जरूरत है। जबकि, शेष नौ जिलों में 3654 शिक्षक  मानक की तुलना में अधिक हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:चार जिलों में बढ़ेंगे शिक्षक, नौ में घटेंगे