DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

और बिगड़ेगी सूबे की माली हालत

पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चन्द्र खंडूड़ी ने कहा है कि प्रदेश की वित्तीय स्थिति को लेकर सावधान होने की जरूरत है। स्थितियां तब और खराब हो जाएंगी जब प्रदेश को लोन में लिया हुआ मूलधन भी वापस लौटाना पड़ेगा। 
पौड़ी में पत्रकारों से बातचीत करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री बीसी खंडूड़ी का कहना था कि उनको पहले से ही प्रदेश की वित्तीय स्थितियां खराब होने का अंदेशा था, इसके लिए एक कमेटी का गठन किया गया था।

कमेटी को प्रदेश में नए आय के स्नोत खोजने और फिजूलखर्ची पर रोकने का कार्य दिया गया था। यह भी साफ किया गया था कि, जिस योजना पर बाद में धन व्यय हो सकता है उसे बाद में वित्त दिया जाए। पूर्व सीएम ने कहा इसके अलावा बजट को सरप्लस करने का और कोई दूसरा तरीका नहीं है।

उन्होंने जोड़ा कि प्रदेश की वित्तीय स्थितियां वर्ष 20011-12 के बाद और भी खराब हो जाएंगी जब पूववर्ती सरकारों द्वारा लोन पर लिए गए मूलधन को भी वापस करना पड़ेगा अभी तक तो वित्तीय संस्थानों को लोन का ब्याज ही दिया जा रहा है। प्रदेश में स्थानांतरण नीति पर बीसी खंडूड़ी ने कहा कि उन्होंने स्थायी स्थानांतरण नीति बनाई थी, जिसे जनवरी से लागू होना था, लेकिन हो नहीं पाई।

उत्तराखंड आंदोलकारी के चयन को लेकर उनका कहना था कि प्रक्रिया जटिल हो गई थी इसके लिए आंदोलनकारियों को ही इसकी जिम्मेदारी दी गई थी। सरकार का मकसद हर आंदोलनकारी को सम्मान देना था। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:और बिगड़ेगी सूबे की माली हालत