DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गुलाबी बेडशीट से खिलेंगे वैवाहिक जीवन में भी गुलाब

गुलाबी बेडशीट से खिलेंगे वैवाहिक जीवन में भी गुलाब

वास्तु की सकारात्मक ऊर्जा घर-परिवार, रिश्ते-नाते, धन, पुत्र को बांध कर रखती है व इन्हें बिखरने से बचाती है। जीवन में खुशियों की सौगात लाती है। किन्तु वास्तु दोष युक्त भवन में कई प्रकार की परेशानियां आती रहती हैं। वो चाहे धन को लेकर हो, रिश्तों को लेकर हो, व्यवसाय, व अध्ययन को लेकर हो या फिर सेहत को लेकर हो। सबसे बड़ी सुख-शांति घर का चैन है जो परिवार के सदस्यों से बनता है और उसको बनाकर रखने में परिवार के सदस्यों का आपसी प्यार व सहयोग जरूरी होता है, जिससे यह दुनिया चलती है। पति-पत्नी में अगर आपसी प्यार व सहयोग नहीं होता तो चैन भी उड़ जाता है, शांति भंग हो जाती है व आर्थिक कमजोरी भी हो जाती है। लक्ष्मी भी उसी घर में निवास करती हैं जहां आपसी प्यार सहयोग होता है। वास्तु सिर्फ घर की सुन्दरता को ही नहीं बढ़ाता बल्कि घर में रहने वाले सदस्यों की खुशियों व आयु में भी वृद्घि करता है और सेहत को तंदुरुस्त बनाता है। पति-पत्नी के संबंधों को मधुर बनाने में वास्तु का बड़ा योगदान है। अपने एक क्लाइंट का सच्चा किस्सा सुनाता हूं। पति-पत्नी के संबंधों में भारी तनाव इस कदर बढ़ गए थे कि एक दिन पत्नी अकेली रह गयी। पति घर छोड़कर चले गए और सभी परिजन पत्नी को दोषी ठहराने लगे। जब हमने घर का दौरा किया तो हमें कई तरह के वास्तु दोष देखने को मिले, जो रिश्तों में कड़वाहट पैदाकर मधुरता को खत्म करते हैं। उन दोषों को जैसे ही हमने दूर करवाया वैसे ही घर खुशी से खिल उठा तथा पति घर वापस लौट आए।

बहुत से घरों की यही कहानी है कहीं किसी बात को लेकर तो कहीं किसी बात को लेकर बतंगड़ बन जाता है। छोटी-छोटी बातें भयंकर रूप धारण कर लेती हैं। मगर थोड़ी सावधानी व उपचार घर को स्वर्ग बना देती है। यदि हम कुछ जरूरी बातों का ध्यान रखें तो घर खुशहाली की ओर दौड़ेगा।

नव विवाहित को उत्तरी या उत्तरी पश्चिमी हिस्से का चयन करना चाहिए ताकि जीवन को रस, रंगों से भर अधिक रोमांचक व सुखमय बनाया जा सके।

पलंग के ऊपर या सामने शीशा नहीं होना चाहिए। दीवारों का रंग हल्का गुलाबी, हल्का नीला और सफेद हो तो अति उत्तम रहता है।

परिवार के मुखिया (पति-पत्नी) को दक्षिण-पश्चिम के हिस्से को चुनना चाहिए। सोते समय दक्षिण या दक्षिण पश्चिम की तरफ सिर करके सोना चाहिए।

अन्य शादीशुदा सदस्यों को दक्षिण या पश्चिम या उत्तरी हिस्से का चयन करना चाहिए। परंतु दक्षिण-पूर्व अग्नेय कोण का कभी चयन नहीं करना चाहिए।

हल्के रंग की बेड शीट खास तौर पर गुलाबी या रेशमी हो तो रिश्तों में अति प्रगाढ़ता आती है तथा मजबूती व विश्वास कायम होता है।

बहुत गहरा, लाल व काला रंग शयन कक्ष में बेचैनी व तनाव देता है अर्थात् कमरे के लिए उत्तम नहीं रहता। शयन कक्ष सदैव साफ-सुथरा होना चाहिए। अनावश्यक वस्तुओं को कमरे में न रखें। अन्यथा संबंध व स्वास्थ्य प्रभावित होंगे।

एक गद्दे के प्रयोग से रिश्तों में मजाबूती आती है। सोते समय ठीक दरवाजे के सामने नहीं सोना चाहिए। पलंग के सिर वाली साइड पर खिड़की नहीं होनी चाहिए।

कमरे में मोबाइल न रखें। कमरा एकदम साफ-सुथरा हो।

पति-पत्नी की फोटो पलंग पर रखें।

कमरे के पर्दे हल्के रंग के हो। गहरा लाल रंग गुस्से को बढ़ाता है।

हल्के नीले रंग के बल्ब को सोते समय इस्तेमाल करें।

लड़ाई के मैदान वाले चित्र/फोटो मृत लोगों के फोटो या गमगीन चित्र कमरे में न लगाएं।

अगर कमरे में टी0वी0 या ड्रेसिंग टेबल हो तो रात को सोने से पहले उन्हें ढक दें।

बिस्तर की चादर रात को सोने से पहले जरूर बदलें।

शयन कक्ष में पूजा स्थल न बनाएं।

बिस्तर की साइड पर मित्रों या अन्य लोगों के फोटो न रखें।

किताबें या अन्य सामान बिस्तर पर न रखें व उनको सही स्थान दें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गुलाबी बेडशीट से खिलेंगे वैवाहिक जीवन में भी गुलाब