DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रोना क्या.. अगस्त तक प्रेम से ङोलिए महंगाई की मार

रोना क्या..  अगस्त तक प्रेम से ङोलिए महंगाई की मार

मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए गठबंधन सरकार 22 नवंबर, 2009 को 6 माह पूरे कर लेगी। सरकार बनने से अब तक प्रारंभ में विभागों के बंटवारे को लेकर हुई खींचतान को छोड़ दें तो आसमान छूती मंहगाई व अपने चुनाव पूर्व किए वादे से दूर जाने के बावजूद यूपीए सरकार निर्बाध रूप से चल रही है। विगत् महीनों से विपक्ष यूपीए सरकार पर दवाब बनाने की बजाय खुद आंतरिक विद्रोह व अस्थिरता ङोल रहा है। हाल ही में सम्पन्न हुए विधान सभा चुनावों में कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए गठबंधन की भारी विजय ने विपक्ष की रही-सही बोलती बंद करवा दी है। आइए आज ज्योतिशास्त्र के माध्यम से जानते हैं कैसा रहेगा मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार का भविष्य? क्या सरकार मंहगाई, नक्सली व आतंकी हमले एवं बेरोजगारी पर रोक लगा पाएगी? क्या यूपीए सरकार जनता की उम्मीदों पर खरी उतर पाएगी? जवाब के लिए आइए यूपीए सरकार की जन्म-कुण्डली के ग्रह-नक्षत्रों पर नजर डालें।

मनमोहन सिंह के नेतृत्व में यूपीए सरकार ने 22 मई, 2009 की संध्या, 6 बजकर 30 मिनट पर शपथ-ग्रहण की। शपथ ग्रहण के समय वृश्चिक लग्न तथा अश्विनी नक्षत्र की चतुर्थ चरण अर्थात् मेष राशि में यूपीए सरकार का जन्म हुआ।

22 मई, 2009 को शपथ ग्रहण का पूर्व निर्धारित समय संध्या 5:30 बजे को एक घंटा आगे बढ़ाए जाने के पीछे ज्योतिषीय दृष्टि से चर लग्न तुला की बजाय वृश्चिक स्थिर लग्न को प्राप्त करना मुख्य कारण था।स्थिर लग्न वृश्चिक के साथ लग्नेश मंगल की पंचम भाव में सप्तमेश, शुक्र से युति यूपीए सरकार को अपना 5 वर्ष का कार्यकाल पूरा करने का संकेत दे रहा है। सूर्य-बुध की सप्तम भाव में स्थिति और उस पर राहु, शनि की दृष्टि गठबंधन में शामिल दलों से कभी सहयोग कभी भारी असहयोग दोनों स्थिति बनाएगी। लग्नेश-षष्ठेश दोनों मंगल का होना और सप्तमेश शुक्र से युति विपक्ष को पंगु बनाने वाला बना है। बल्कि विपक्ष से ज्यादा यूपीए गठबंधन में शामिल दल कई बार कुछ मुद्दों पर विपक्ष की भूमिका में नजर आएंगे।

केतु की दशा में सरकार का जन्म अगस्त, 2010 तक मंहगाई पर नियंत्रण करने में असफल रहेगा। लग्न पर सूर्य, बुध और लग्न के साथ लग्नेश मंगल पर केतु की दृष्टि नक्सली-आतंकी हमलों में वृद्घि के साथ गृह व रक्षा मंत्रालय के लिए मुश्किल इम्तिहान लेने वाली है। कभी-कभी नक्सली व आतंकी सरकार पर भारी पड़ेंगे तो कभी सरकार इनपर भारी पड़ेगी। प्राकृतिक आपदा, स्वास्थ्य की विभिन्न समस्या स्वास्थ्य मंत्रालय के लिए काम बढ़ाने वाली है।

सितम्बर, 2010 से शुक्र दशा का प्रारंभ होते जनता व विपक्ष के भारी दवाब के बाद सरकार मंहगाई पर लगाम लगा पाएगी। सितम्बर, 2010 के बाद विपक्ष अपनी भूमिका में जोरदार तरीके से वापसी करता नजर आएगा। लग्न पर केतु तथा कर्मेश सूर्य पर शनि, राहु की दृष्टि तथा छठे चंद्र प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ-साथ मंत्रिमंडल के बुजुर्ग सदस्यों के स्वास्थ्य व उम्र के लिए घातक है, सतर्कता हितकर रहेगी।

बृहस्पति की चतुर्थ स्थिति यूपीए शासन के दौरान देश की आर्थिक स्थिति मजाबूत करने वाली है। बैकिंग, वित्त तथा शेयर मॉर्केट नयी ऊँचाई प्राप्त करेंगे। बृहस्पति पर शनि की दृष्टि समय-समय पर देश में कई बड़े आर्थिक घोटाले भी सामने लाएगा। व्यापारी वर्ग सबसे ज्यादा खुशहाल होगा। अर्थव्यवस्था मजाबूत होगी। जनता को खुशहाली के लिए सितंबर, 2010 का इंतजार करना होगा।

तीसरे राहु, नवम केतु पड़ोसी देशों से संबंध में उतार-चढ़ाव व आरोप-प्रत्यारोप की स्थिति बनाए रखेगा। पड़ोसी देशों की गुप्त चाल से सरकार को सतर्क रहना होगा।बृहस्पति, सूर्य-बुध तथा शनि की केन्द्रवर्ती उपस्थिति के कारण सरकार द्वारा लिए निर्णय का दूरगामी परिणाम देश की जनता के हित में और अंतरराष्ट्रीय मंच पर प्रतिष्ठा बढ़ाने वाला होगा। अप्रैल, 2011 से जून, 2014 के दौरान देश की अर्थव्यवस्था औद्योगिक क्षेत्र, अनुसंधान, व्यवसाय; एवं नौकरी सेक्टर में अप्रत्याशित प्रगति होगी। बेरोजगारी में कमी और मंहगाई से भी राहत मिलेगी। युवाओं व महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका यूपीए सरकार और देश की तरक्की में होगी। भारत सुपर पावर देश की श्रेणी में आ जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रोना क्या.. अगस्त तक प्रेम से ङोलिए महंगाई की मार