DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आडवाणी पांच साल तक नेता प्रतिपक्ष नहीं रहेंगे: नायडू

आडवाणी पांच साल तक नेता प्रतिपक्ष नहीं रहेंगे: नायडू

भाजपा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को कहा कि लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष लालकृष्ण आडवाणी ने पार्टी नेताओं से कहा है कि वह इस पद पर पांच साल तक नहीं रहना चाहते।

भाजपा में आजकल नए अध्यक्ष और आडवाणी के उत्तराधिकारी को लेकर अटकलबाजियों का दौर जारी है। इसी बीच नायडू ने कहा है कि पार्टी आडवाणी का नेतृत्व और मार्गदर्शन चाहती है और उनके उत्तराधिकारी का चयन समय के हिसाब से उनके ऊपर छोड़ दिया गया है। उन्होंने कहा कि आडवाणी के न चाहते हुए भी 15वीं लोकसभा में उन्हें नेता प्रतिपक्ष के पद पर चुना गया था।

नायडू ने कहा कि उन्होंने हमें बताया कि वह 15वीं लोकसभा के अंत तक इस पद पर नहीं रहना चाहते और अपनी जिम्मेदारी किसी अन्य साथी के हाथों में सौंपना चाहते हैं। इस संदर्भ में लोकसभा में विपक्ष की उपनेता सुषमा स्वराज ने कल कहा था कि वह आडवाणी की उत्तराधिकारी हो सकती हैं और इस कारण उन्होंने पार्टी का अध्यक्ष पद स्वीकार नहीं किया। उन्होंने संघ की ओर से आडवाणी के पद छोड़ने की समयसीमा तय किए जाने की खबरों का भी खण्डन किया।

नायडू ने कहा कि मैं यह बता देना चाहता हूं कि मैंने अपने साथियों को सूचित कर दिया है कि मैं पार्टी अध्यक्ष बनने की दौड़ में शामिल नहीं हूं, क्योंकि इससे पहले मैं एक बार इस पद पर रह चुका हूं। पार्टी ने मुझे 52 साल की उम्र में यह मौका दिया था। उन्होंने कहा कि भाजपा और संघ विचारधारा के स्तर पर एक समान हैं लेकिन ढांचागत और कार्यकारी स्तर पर दोनों स्वतंत्र और स्वायत्त हैं। उन्होंने साफ किया कि दोनों समान और राष्ट्र हित से जुड़े मामलों पर चर्चा करते हैं और बिना मांगे संघ कभी भाजपा को कोई सलाह नहीं देता है।

अगले पार्टी अध्यक्ष के बारे में पूछे जाने पर नायडू ने कहा कि इस मुद्दे पर कई नामों पर चर्चा हुई है और संघ की ओर से किसी नाम पर न तो हां हुई है और न ही ना। अभी पार्टी की ओर से किसी के नाम का चयन नहीं किया गया है। उन्होंने बताया कि इस मुद्दे पर अभी भी चर्चा की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आडवाणी पांच साल तक नेता प्रतिपक्ष नहीं रहेंगे: नायडू