DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आर्थिक दबाव में

अकसर ऐसा होता है कि आर्थिक दबाव के कारण मन में संशय और असमंजस की स्थिति बन जाती है। प्लान की हुई योजनाएं बेकार हो जाती हैं जिससे आगे के निवेश की प्लानिंग धरी रह जाती है। हर व्यक्ति की जिंदगी में अकसर ऐसा दौर होता है, लेकिन अगर इसमें धैर्य से काम लिया जाए, तो आर्थिक समस्या की यह राहें आसान हो सकती हैं।
खर्चो पर करें गौर
आप अपने रोजमर्रा के खर्चो पर गौर करें, देखें कहीं फिजूलखर्ची तो नहीं हो रही। जरूरी है कि इस दौर में फैसले सोच-समझकर लिए जाएं क्योंकि जल्दबाजी के फैसले अकसर खतरनाक साबित होते हैं। साथ ही तनाव को अपने ऊपर हावी किए बिना अपने बेकार के खर्चो पर नियंत्रण करें।
करें प्लानिंग
खेल में बनाने वाली योजना की तरह ही फाइनेंशियल प्लानिंग करें। जैसे खेल योजना में मौकानुसार बदलाव होता है, वैसे ही आप अपनी प्लानिंग में परिवर्तन करते रहिए। इस प्लान को किसी कॉपी में लिख लीजिए ताकि समय-समय पर आपको प्राप्त किए जाने वाले लक्ष्यों के बारे में ध्यान रहे।
नियम बनाएं
फाइनेंशियल प्लानिंग करते समय कुछ बातें गांठ बांध कर रख लें, मसलन अपनी आय का एक तिहाई खर्च, एक तिहाई निवेश, एक तिहाई सेविंग में लगाना है। साथ ही बजट का निर्धारण कर लें, अनुमान लगाएं कि महीने में अधिकतम कितना खर्च करते हैं क्योंकि रोजमर्रा की जरूरतें भी जरूरी हैं।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:आर्थिक दबाव में