DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

तीस हजारी सचिन

सचिन तेंदुलकर के नाम एक और रिकार्ड जुड़ गया, जब टेस्ट क्रिकेट और अंतरराष्ट्रीय एक दिवसीय मैचों में कुल मिलाकर 30,000 रन बनाने वाले वे पहले क्रिकेटर बन गए। टेस्ट क्रिकेट और एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी तो वे हैं ही। यह भी उचित ही रहा कि 30,000 रन सचिन की 43 वें शतक के साथ ही पूरे हुए। जब इंग्लैंड के फ्रेडी ट्रमन टेस्ट क्रिकेट में 300 विकेट लेने वाले पहले गेंदबाज बने थे तो उन्होंने कहा था कि जो उनका रिकार्ड तोड़ेगा, वह बुरी तरह थक चुका होगा। मौजूदा टेस्ट सीरीज में 800 विकेट लेने की कगार पर पहुंचे मुथैया मुरलीधरन भी खेल रहे हैं और तेंदुलकर भी। और हम सोच ही सकते हैं कि दोनों ने कितनी मेहनत की होगी। सचिन के रन की संख्या ही नहीं, जिस तरह से वे बनाए गए हैं, वह भी उनके महान खिलाड़ी होने का प्रमाण है। क्रिकेट की किताबों में ऐसा कोई शॉट नहीं है, जो तेंदुलकर बहुत अच्छी तरह नहीं खेलते और ऐसे काफी सारे शॉट वे शानदार ढंग से खेलते हैं, जिनका जिक्र किताबों में नहीं है। महान खिलाड़ी होने का एक बड़ा प्रमाण होता है कि विदेशी मैदानों पर उस खिलाड़ी का प्रदर्शन कैसा है। कुछ खिलाड़ी अपने घर पर शेर होते हैं और बाहर लड़खड़ा जाते हैं। सचिन का प्रदर्शन देश के बाहर ज्यादा अच्छा है। जबसे सचिन ने खेलना शुरू किया है, लगभग तभी से ऑस्ट्रेलिया नंबर एक टीम रही है, वह भी इस अंदाज में कि नंबर दो और नंबर तीन भी दूर-दूर तक नजर नहीं आता। सचिन का सबसे अच्छा प्रदर्शन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही हुआ है, इसका मतलब यह है कि जितनी बड़ी चुनौती है, उनका प्रदर्शन उतना ही बेहतर हुआ है। बीस साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने और इतने सारे रन बना चुकने के बाद आज भी सचिन उतनी ही तेजी से एक-एक रन दौड़ते हैं, जितनी तेजी उनके शुरू के दिनों में रही होगी और परिस्थितियों के हिसाब से अपने खेल को ढालने की उनकी खूबी आज भी सामने वाली टीम के लिए चुनौतियां खड़ी करती है। जिस अंदाज में वे अभी खेल रहे हैं, उसे देख कर यह उम्मीद होती है कि और बहुत दिनों तक हम उन्हें बहुत सारे रन बनाते देख पाएंगे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:तीस हजारी सचिन