DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मीडिया पर शिवसैनिकों का हमला, मारपीट

मीडिया पर शिवसैनिकों का हमला, मारपीट

संदिग्ध शिवसैनिकों ने बाल ठाकरे की छवि कथित तौर पर धूमिल करने के विरोध में शुक्रवार को मुंबई स्थित मराठी समाचार चैनल आईबीएन-लोकमत के ऑफिस में कथित शिव सेना के उपद्रवी तत्वों ने जमकर उत्पाद मचाया और मीडियाकर्मियों के साथ मारपीट की। हमलावरों ने आईबीएन-लोकमत के संपादक निखिल वागले के साथ भी मारपीट की। विक्रोली स्थित ऑफिस में तोड़फोड़ के बाद पुलिस ने सात हमलावरों को पकड़ लिया है।

लोहे की छडों और गदा से लैस ये हमलावर नारे लगाते हुए मुंबई के उपनगरीय इलाके में स्थित आईबीएन लोकमत के कार्यालय में घुस गए और तोड़फोड़ की। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर बाल ठाकरे के खिलाफ रिपोर्ट देना जारी रहा तो उसके गंभीर परिणाम होंगे। चैनल ने इन लोगों द्वारा कर्मचारियों को पीटने, फर्नीचर में तोड़फोड़ करने और खिड़कियों के शीशे और फूलदान पटक देने के चित्र भी दिखाए।

पुलिस उपायुक्त आरएम वाटकर ने बताया कि सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया और अन्य दोषी व्यक्तियों को गिरफ्तार करने की कोशिश की जा रही है। चैनल के कर्मचारियों ने बताया कि हमलावर शिवसेना और उसके प्रमुख बाल ठाकरे के समर्थन में नारे लगा रहे थे।

पुणे से प्राप्त एक रिपोर्ट के अनुसार शिवसेना के कुछ संदिग्ध कार्यकर्ताओं ने सिंहदाद रोड स्थित आईबीएन लोकमत के कार्यालय पर पथराव किया और ओबी वैन नष्ट कर दी। मुंबई कार्यालय पर हमले के समाचार के बाद वहां पुलिस तैनात कर दी गई थी। पुलिस ने पथराव कर रहे आठ हमलावरों को गिरफ्तार कर लिया।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने घटना की निंदा करते हुए दोषियों के खिलाफ त्वरित और समुचित कार्रवाई करने का वादा किया। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में सबको अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है लेकिन इसमें हिंसा की कोई जगह नहीं है, लेकिन शिवसेना और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) जैसे संगठन जो प्रचार पाने के लिए क्षेत्रीय और भाषाई मुद्दों को उठाते हैं। उनसे आप कैसे कुछ उम्मीद कर सकते हैं।

राज्य के गृह मंत्री आरआर पाटिल ने इसे कायराना हरकत बताते हुए कहा कि दोषियों का पता लगा कर बिना कोई वक्त गंवाए उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने सभी मीडिया संस्थानों को समुचित सुरक्षा प्रदान करने का आश्वासन देते हुए कहा कि ऐसी घटनाओं की जांच में जो संगठन लिप्त पाए जाएंगे सरकार उनसे ही क्षतिपूर्ति के लिए हर्जाना दिलवाएगी।

शिवसेना के पूर्व नेता और कांग्रेस के मौजूदा सांसद संजय निरूपम ने घटना की निंदा करते हुए इसे मीडिया की आजादी पर हमला बताया। समाजवादी पार्टी विधायक अबू आसिम आजमी ने कहा कि हालात इतने बदतर इसलिए हो गए हैं क्योंकि सरकार ने अतीत में ऐसी हरकतें करने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की। आजमी के हिन्दी में शपथ लेने का विरोध करते हुए मनसे विधायकों ने उनसे विधानसभा में मारपीट की थी।

टेलीविजन चैनलों के संपादकों के संगठन ब्राडकास्ट एडीटर्स एसोसिएशन (बीईए) ने हमले की निंदा करते हुए इसकी जांच की मांग की। बीईए ने जारी अपने एक बयान में कहा कि यह अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर हमला है। यह उन लोगों की हरकत हैं जो कलम, माइक्रोफोन और कैमरा की भूमिका सीमित कर देना चाहते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मीडिया पर शिवसैनिकों का हमला, मारपीट