DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मॉस की `छरहरी काया' से उपजा विवाद

मॉस की `छरहरी काया' से उपजा विवाद

सुपरमॉडल केट मॉस का मानना है, "नथिंग टेस्टस एज गुड एज स्किनी फिल्स" यानी दुबले-पतले होने में जो मजा है वह कहीं और नहीं। उनका यह कहना था कि विवाद मुंह बाए खड़ा हो गया।

कांटेक्टम्यूजिक के अनुसार, साइज जीरो के विरोध में अभियान चला रहे लोगों ने मॉस के एक साक्षात्कार में इस कथन को स्वीकार करने के बाद उन्हें निशाने पर ले लिया।

`से नो टू साइज जीरो' अभियान चलाने वाली पूर्व मॉडल केटी ग्रीन ने कहा, केवल ब्रिटेन में 11 लाख लोगों में खाने संबंधी विकार हैं । लाखों लड़कियां मॉस बनना चाहती हैं । उनका बयान गैर जिम्मेदराना और चौंकाने वाला है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मॉस की `छरहरी काया' से उपजा विवाद