DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रुपये के पन्द्रह!

जबसे यह कहा जा रहा है कि ‘दिल्ली’ से चला एक रुपया ठिकाने पर पहुंचते-पहुंचते 15 पैसे रह जाता है, समझ में नहीं आता है कि इस जानकारी पर हँसुं या रोऊँ? हँसता हूं तो यह शेष 85 पैसे की तौहीन होगी, रोता हूं तो यह एक रुपये के रह गए 15 पैसे को निराश करने वाली बात होगी..

वैसे बहस इस बात को लेकर भी की जा सकती थी कि दिल्ली से एक रुपया सही-सलामत चलता भी है कि नहीं? कहीं यह प्रदेश को बदनाम करने की साजिश तो नहीं? जमाना खराब है, सूत्रों पर ज्यादा भरोसा भी तो नहीं किया जा सकता, फिर आजकल ‘केन्द्र’ और प्रदेश के मध्य जिस तरह की तनातनी देखने को मिलती है उसमें साजिश की संभावना से इन्कार भी तो नहीं किया जा सकता?

पत्रकारों ने जब देश के प्रधानमंत्री से रुपये के पंद्रह के बारे में पूछा तो पहले वे हँसे, मानो मन-ही-मन कह रहे हों, यह भी कोई प्रश्न है? फिर बोले, ‘इतना नहीं यार, पंद्रह तो बहुत कम है, माना भ्रष्टाचार बहुत है फिर भी मैं समझता हूं ‘ठिए’ पर रुपये के 20 पैसे तो पहुंचते ही होंगे..’

अलग-अलग स्नोत हैं, सर्वे हैं, आकलन हैं, कोई ठिए पर पंद्रह पैसे पहुंचने की बात करता है तो कोई 16, 20 .. 25 पैसे की , कोई-कोई तो ठिए पर मात्र पाँच पैसे ही पहुंचा रहा है। मेरा दावा है कि दिल्ली से शुरू एक रुपये की यात्रा दिल्ली बॉर्डर क्रॉस करते-करते 50 पैसे में बदल जाती होगी। राजधानी के अपने मेट्रो खर्चे हैं कि नहीं। सो हमें दिल्ली से चला एक रुपया की जगह दिल्ली से चले 50 पैसे कहना चाहिए। कहानी की शुरुआत में ही भ्रम का निवारण हो जाए तो ज्यादा उम्दा रहता है..।

मान लीजिए कि रुपये को सुदूर ‘धनुआ खेड़ा’ पहुंचना है। जो बेचारा बॉर्डर क्रॉस करते-करते पचास पैसे रह गया हो, वो धनुआ खेड़ा पहुंचते-पहुंचते कितने पैसे रह जायेगा? अंदाजा लगाइए। वैसे हम अंदाज लगाने के सिवा कर ही क्या रहे हैं?

एक बार की बात है, दिल्ली से चला एक रुपया बिना किसी कतरब्योंत के ठिए पर पहुंच गया, अब तो तहलका मच गया। मचना ही था। आखिर ऐसा कैसे हो सकता था? उस रुपये को देखने के लिए भारी भीड़ लग गयी। हर कोई ऐसे नोट के दर्शन करना चाहता था। इतने गिद्द्धों के रहते आखिर चूहा नुचे बिना कैसे रह गया? लोग डर गए, उसे हाथ लगाने से ही इनकार कर दिया। पड़ा-पड़ा जंग खाने लगा तो लोगों ने कहा इससे तो अच्छा 15 पैसे ही आ जाते, कम से कम इस्तेमाल तो होते।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रुपये के पन्द्रह!