DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अवैध भट्ठियों के मुकदमे खारिज

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में सुनवाई व कार्रवाई के बीच सिटी मजिस्ट्रेट सी.पी. सिंह ने एक महत्वपूर्ण फैसले में नगर विधायक हाजी याकूब के पुत्र इमरान सहित 25 व्यक्तियों के हापुड़ रोड स्थित कमेला क्षेत्र में अवैध भट्ठी और पशु कटान बंद कराने संबंधी पुराने मुकदमों को खारिज कर दिया।

फैसले में सिटी मजिस्ट्रेट ने कहा कि 25 अक्तूबर से 30 अक्तूबर के बीच चलाए गए अभियान में सभी भट्ठियों के ध्वस्तीकरण के बाद इन मुकदमों का कोई औचित्य नहीं है। इस कारण दण्ड प्रक्रिया संहिता 133 (1) के तहत दर्ज मुकदमे और नोटिस को वापस लिया जाता है। आदेश में नगर आयुक्त को यह जिम्मेदारी दी गई है कि ध्वस्त कराई गई भट्ठियों का पुनर्निर्माण न होने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। आदेश के संबंध में आरोपियों के वकीलों ने इसकी पुष्टि की है।

इससे पहले मानवाधिकार आयोग के आदेश पर 13 अगस्त को सिटी मजिस्ट्रेट, सीओ कोतवाली, उप नगर आयुक्त, नगर स्वास्थ्य अधिकारी, प्रदूषण बोर्ड के सहायक वैज्ञानिक आदि ने निरीक्षण में पाया था कि 25 व्यक्तियों की सौ से अधिक अवैध भट्ठियां चल रही हैं। इस आधार पर सभी 25 आरोपियों के खिलाफ धारा-133(ए) के तहत मामला दर्ज कर 17 अगस्त को नोटिस जारी किए गए थे। सितम्बर-अक्तूबर में कई आरोपियों ने प्रशासन के आरोप पर आपत्ति दर्ज कराई थी। कई दिनों की सुनवाई के बाद अब मुकदमों को समाप्त कर नोटिस वापस कर लिया गया है।

ज्ञात हो कि विधायक पुत्र हाजी इमरान, फिरोज, यामीन, मो. नदीम, हाजी शबाब, हाजी शरीफ, हाजी जाहिद, उम्रदराज, हाजी पप्पू, हाजी मेहरबान, इरफान, कलवा, हाजी बदरुद्दीन, हाजी युसूफ, मो. नदीम, हाजी असलम, मेहराज, दिलशाद, नन्हे, अय्युब, मेहरबान, हाजी कलम और मुस्तफा सहित 25 आरोपियों पर सौ से अधिक भट्ठियों के संचालन के आरोप में मामला दर्ज हुआ था। इन सभी पर भट्ठियों व कई गोदामों में पशुवध कार्य करने, कमेला क्षेत्र में गंदगी फैलाने और पब्लिक न्यूसेंस के गंभीर आरोप थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अवैध भट्ठियों के मुकदमे खारिज