DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महिलाओं ने बीडीओ को घेरा

थाती कठूड़ पट्टी के भेटी गांव की माहिलाओं ने नरेगा में रोजगार न मिलने पर ब्लॉक में प्र्दशन कर बीडीओ का घेराव किया। उन्होंने भिलंगना ब्लॉक मुख्यालय पर एक दिन का धरना दिया। महिलाओं का कहना है कि जब से जाब कार्ड बने हैं तब से उन्हें कोई भी कार्य नहीं मिला है। कार्य को लेकर महिलाएं कई बार आवेदन कर चुकी हैं। जाब कार्ड धारक महिलाओं ने चेतवानी दी है कि एक सप्ताह के अन्तराल में उन्होंने कार्य नही दिया गया तो वे जिलाधिकारी कार्यालय में धरने पर बैंठेंगे।

भिलंगना ब्लॉक के भेटी गांव की 53 महिलाएं गुरुवार को ब्लॉक मुख्यालय में अपने जाब कार्ड को लेकर आयी थीं। महिलाओं ने खंड विकास अधिकारी का घेराव करते हुए कहा कि 2006 से अभी तक उन्हें नरेगा के तहत कोई भी कार्य नहीं मिला है। महिलाओं ने आरोप लगाया कि विभागीय अधिकारियों के द्वारा उन्हें गुमराह किया जा रहा है। घेराव करते समय महिलाओं ने अपने खाली जाब कार्ड बीडीओ को बताए तथा शीघ्र कार्य देने की मांग की। नरेगा के कार्य

मांग को लेकर धरने पर बैठी प्रेमा देवी ने बताया कि तीन वर्षों में उन्हे किसी तरह का कार्य नहीं दिया गया। देवेश्वरी देवी, कृष्णा देवी, मीना देवी, सुन्दरा देवी बैसाखी देवी, चन्द्रा देवी कमला देवी आदि ने कहा कि वे कई बार नरेगा के कार्य की मांग को लेकर आवेदन कर चुके हैं, लेकिन कोई भी रोजगार देने के लिए तैयार नहीं है।उन्होंने कहा कि कुछ महिलाओं को तीन साल में केवल चार-चार दिन का रोजगार दिया गया और उसका भी भुगतान नहीं दिया गया।

उन्होंने प्रधान व पंचायत मंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन लोगों के नाम मस्ट्रोल पर भरे गये हैं, जो गांव में रहते ही नही हैं। महिलाओं ने कहा कि अगर एक सप्ताह के अन्तराल में उन्होंने कार्य नहीं मिलता है तो वे 26 नवम्बर को जिलाधिकारी कार्यालय में धरने  पर बैठेंगे। वहीं बीडीओ पवन कुमार ने बताया कि उक्त जाब कार्ड धारकों को कार्य देने के लिए पत्रवली तैयार की जा रही है। कार्य को लेकर प्रदर्शन, घेराव व धरना देने वाली महिलाओं में कमला देवी, बैसाखी देवी, दर्शनी देवी, कौशल्या देवी, सुचिता देवी, क्वारी देवी, उत्तमा देवी, सोनी देवी, विरा देवी सहित कई महिलाएं थी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:महिलाओं ने बीडीओ को घेरा