DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

संभव है एसडीएम पर हमला सुनियोजित हो

विंडसर नोवा रिहायशी इलाके में एसडीएम पर जानलेवा हमला करने का मामला कहीं सुनियोजित तो नहीं? दरअसल एसडीएम विशाल सिंह इन दिनों अपनी प्रशासनिक कार्रवाई को लेकर गौतमबुद्धनगर-गाजियाबाद के कई लोगों की आंख की किरकिरी बने हुए हैं। जिसमें मुख्य रूप से खनन से जड़े सफेदपोश शामिल हैं। ये लोग किसी भी तरह से उनके खिलाफ होने वाली कार्रवाई को रोकने अथवा कुछ समय के लिए बंद करा देने के प्रयास में हैं।

गौरतलब है कि एसडीएम विशाल सिंह वही एसडीएम हैं, जिन्होंने अपनी कार्रवाई के दौरान वर्ष 2008 में लोनी में भी अवैध अतिक्रमण हटवाया था। इस दरम्यान भी उन पर जानलेवा हमला हुआ था। सूत्रों के मुताबिक लगभग दो सप्ताह पूर्व एसडीएम सदर विशाल सिंह के सीनियर अधिकारी ने उन्हें बुलाकर समझाया भी था कि खनन माफियाओं पर अधिक अंकुश लगाना कहीं आगे चलकर नुकसानदायक न हो। बताया जाता है कि खनन से जुड़े लोगों ने रसूखदार की शरण ली हुई है। जिसका नाम बुधवार रात घटना के बाद भी आरोपी लेकर रुआब डालने की कोशिश करते नजर आए। वैसे इन दिनों एसडीएम ने अवैध रूप से बालू-मिट्टी खनन करने वालों के खिलाफ अभियान छेड़ा हुआ है। दजर्नों डंपरों को जब्त करने के साथ-साथ खनन से जुड़े माफियाओं की लिस्ट बनाकर कार्रवाई की जा रही है।

चर्चा है कि बुधवार रात भी हमला करने वालों में ठेकेदार व कुछ अन्य दबंग थे, जिनका खनन से भी कहीं न कहीं ताल्लुक है। लोगों का कहना है कि घटना में शामिल कुछ लोग एसडीएम के पहुंचने के बाद पार्टी में शामिल होने के लिए पहुंचे थे। बहरहाल अपनी बेबाकी और ईमानदार शैली के लिए मशहूर एसडीएम विशाल सिंह ने भी आशंका जताई है कि हो सकता है कि यह घटना किसी साजिश के तहत की गई हो? क्योंकि उनकी कार्रवाई कई लोगों को बर्दाश्त नहीं हो रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:संभव है एसडीएम पर हमला सुनियोजित हो