DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फिर-फिर आता फिरन का फैशन

फिर-फिर आता फिरन का फैशन

परंपरागत ‘कश्मीरी फिरन’ न केवल कश्मीर में, बल्कि भारत भर में पसंद की जाती है। फैशन डिजाइनर्स की मानें तो पूरे विश्व में इसे इस्तेमाल करने वालों की कमी नहीं है। समय के अनुसार इसके स्टाइल, पैटर्न व डिजाइन में आए बदलावों ने इसकी लोकप्रियता को और भी बढ़ा दिया है। शेक्सपियर के नाटकों के पात्रों में भी हमें फिरन देखने को मिलते हैं।

पारंपरिक भारतीय कश्मीरी फिरन घुटनों तक ढीले-ढाले कुर्ते की तरह होती है, जिसे सलवार या चूड़ीदार पायजामी के साथ पहना जाता है। इसके गले पर बारीक कढ़ाई की जाती है। सूट या कुर्ते की तुलना में फिरन की बाजू थोड़ी खुली होती हैं।दिल्ली के साकेत में रहने वाली कश्मीरी मूल की सायना बीबी बताती हैं, ‘कश्मीर ठंडा इलाका है, जहां आपको गर्म कपड़े अधिक पहनने पड़ते हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए ‘फिरन’ जैसी ढीली पोशाक तैयार की गई है।’ कश्मीरी क्राफ्ट व कढ़ाई की तारीफ करते हुए फैशन डिजाइनर कैलाश कहते हैं, ‘कश्मीर के लोग ठंड में घरों में कढ़ाई का बारीक काम करते हैं। वहां फिरन में गले व बाजू पर खूबसूरत तिल्ले, रेशम व नीडल कढ़ाई की जाती है। यही कारण है कि पेरिस के फैशन गलियारों में भी आपको कश्मीरी फिरन देखने को मिलती हैं।’ फिरन पुरुष और स्त्री दोनों की कॉमन ड्रेस है, पर पुरुषों की फिरन की बाजुएं इतनी खुली नहीं रखी जातीं। पुरुषों की फिरन में गले खुले कॉलर वाले होते हैं। इन पर कढमई का काम कम होता है

दिल्ली के कश्मीर इंपोरियम में गर्म कपड़े पर सुई की कढाई से कढ़ा सुंदर फिरन मिलती हैं। इसके अलावा पश्मीना कढ़ाई, आरी की कढमई, काले कश्मीरी फिरन की एक्सक्लूसिव रेंज भी यहां मिल जाएगी। डिजाइनर फिरन में डेलीगेट पश्मीना उपयोग में लाया जाता है। कश्मीरी मुस्लिम पुरुष घुटनों से नीचे तक की फिरन पहनते हैं, जिसके साथ सिर पर सफेद पगड़ी व पैरों में जूती, जिसे ‘गुरगाबी’ कहा जाता है, पहनते हैं, जबकि हिंदू पुरुष सलवार की जगह इसे चूड़ीदार पायजामी के साथ पहनते हैं।

खेती का काम करने वाली महिलाएं ढीली व घुटनों तक की फिरन पहनती हैं।  हिंदू महिलाएं लंबी फिरन पहनती हैं और इसे आकर्षक बनाने के लिए कमर पर खूबसूरत बैल्ट, जिसे ‘थुन्गी’ कहते हैं, पहनती हैं। नई-नवेली दुल्हनों में ब्रोकेड या चमकदार कढ़ाई वाली फिरन लोकप्रिय होती हैं। हिन्दू महिलाएं फिरन के साथ सिर पर ‘तरंग’ जैसा लंबा दुपट्टा पहनती हैं। लडम्कियां भी खूबसूरत तरंग लेना पसंद करती हैं, जो कि उन्हें रोमन लुक देता है। मुस्लिम महिलाएं सिर पर तरंग की जगह ‘कसाब’ पहनती हैं, जो लाल रंग का होता है। लड़कियां फिरन पर टोपी के साथ गोल्डन कढ़ाई वाले पैन्डेंट व लटकन पहनती हैं।       

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:फिर-फिर आता फिरन का फैशन