DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कानपुर टेस्ट मैच पर संकट के बादल

भारत और श्रीलंका के बीच होने वाले क्रि केट टेस्ट मैच पर संकट के बादल छा गए हैं। सूत्रों ने बताया कि अभी तक यूपी सरकार ने मैच कराने के लिए हरी झंडी नहीं दी है। जबकि मैच की तारीख (24 नवंबर) में छह दिन बाकी रह गए हैं। यही नहीं, खेल सचिव प्रभात कुमार सारंगी को भी मैच से चंद दिन पहले बदल दिया गया है।

इस बीच, यूपीसीए ने यूपी सरकार को पत्र लिख ग्रीन पार्क मैदान 50 लाख के बजाए रियायती दर पर 25 लाख में उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है। लेकिन सरकार तैयार नहीं है। टेस्ट मैच के लिए ग्रीन पार्क सरकार 50 लाख और वन डे के लिए एक करोड़ रुपए में उपलब्ध कराती है।

सरकार से जुड़े अधिकारियों का तर्क है कि यूपीसीए ने टेस्ट मैच में 13.50 करोड़ के तो विज्ञापन ही बुक किए हैं। इस तरह वह करीब 50 करोड़ रुपए टिकट आदि बेचकर कमाएगी। जबकि सरकार से 50 लाख में भी रियायत की उम्मीद की जा रही है। इस स्थिति में वह हरगिज रियायत नहीं करेगी। इधर, डीएम कानपुर ने भी एक प्रस्ताव भेजकर शासन से मैच से पहले मरम्मत कराने के लिए तीस लाख रुपए की मांग की है।

सूत्रों का कहना है कि मैच को लेकर सरकार में दो विचारधाराएं चल रही हैं। एक यह है कि मैच कराया जाए और केंद्र से नया मोर्चा न खोला जाए। जबकि दूसरी विचारधारा यह है कि केंद्र सरकार के नजदीकी यूपीसीए के पदाधिकारी हैं, इसलिए उनको शोमैन बनाने के लिए मैच कराने की अनुमति नहीं दी जाए। अब देखना यह है कि कौन सी विचारधारा जीतती है, यानी मैच होता है या टलता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कानपुर टेस्ट मैच पर संकट के बादल