DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

छापा पड़ा तो दुकान बंद कर भाग गए

डीएपी की कालाबाजारी की आशंका पर लखनऊ से आई विशेष टीम ने बुधवार को जिले में खाद की दुकानों पर छापामारी की। छापे की सूचना मिलते ही बहुत से लोग अपनी दुकान बंद कर भाग निकलें। हालांकि टीम को किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं मिली।


गेहूं बुआई का समय चलने से डीएपी को लेकर मारामारी मची हुई है। सरकारी क्रय केंद्रों से डीएपी गायब हो चुकी है। डीएपी गायब होने की गूंज शासन तक हो रही है। शासन ने हर जिले में छापे डालने के निर्देश दिए हैं। बुधवार को सहकारिता विभाग के संयुक्त सचिव बीडी श्रीवास्तव के नेतृत्व में लखनऊ से आई छापामार टीम ने जिले में छापे डाले। उप कृषि निदेशक डॉ. जितेंद्र कुमार तोमर ने बताया कि छापामार टीम ने गाजियाबाद, हापुड़, बाबूगढ़, डासना, पिलखुआ में करीब 18 खाद की दुकानों पर छापे डाले। कई जगह छापे की सूचना मिलते ही लोग खाद की दुकान बंद करके भाग गए। टीम ने विशेष रूप से डीएपी की हालत जानने को छापे डाले। दुकानों पर स्टॉक रजिस्टर चैक किया गया। हालांकि टीम को किसी प्रकार की गड़बड़ी नहीं मिली। टीम ने सहकारिता और पीसीएफ के गोदामों को भी चेक किया। इस टीम में सहायक निबंधक सहकारिता एसपी सिंह, अपर जिला कृषि अधिकारी जयभगवान शर्मा, पीसीएफ के जिला प्रबंधक, इफको के क्षेत्रीय प्रबंधक भी शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:छापा पड़ा तो दुकान बंद कर भाग गए