DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कुशीनगर में एटीएस ने मारे छापे

पाकिस्तानी जासूस सैयद आमिर अली के संपर्कों की तलाश में बुधवार को कुशीनगर में कई जगहों पर ताबड़तोड़ छापे मारे गए। सूत्रों ने बताया कि एटीएस के एक दस्ते ने बुधवार को कुशीनगर जिले में आधा दजर्न स्थानों पर छानबीन की।

पासपोर्ट बनवाने के लिए आमिर ने मूल पता कुशीनगर का दर्ज किया था। यहां कुछ लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की गई है। आमिर और उसके दोनों मददगारों को यूपी एटीएस रिमाण्ड पर लेगी। एटीएस उसके खिलाफ झूठे दस्तावेजों के जरिए पासपोर्ट, राशन कार्ड बनवाने, बैंक में खाता खोलने की एफआईआर भी दर्ज करना चाहती है। एटीएस इसके लिए कानून विशेषज्ञों से राय मांग रही है कि नई दिल्ली में एफआईआर के बाद क्या यूपी में फर्जी दस्तावेज तैयार करने की रिपोर्ट दर्ज की जा सकती है। शासन ने जासूस आमिर के लखनऊ का नागरिक बन जाने में अभिसूचना इकाई, लखनऊ पुलिस की भूमिका की जांच का जिम्मा भी एटीएस को सौंप दिया है।

एटीएस ने आमिर के पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, राशन कार्ड और बैंक खातों को सील कर दिया है। उससे जुड़े तमाम दस्तावेज कब्जे में ले लिए गए हैं। संदेह के घेरे में आए लोगों के घरों, दफ्तरों की छानबीन जारी है। संदिग्ध लोगों की जड़ें और व्यवस्था की खामियों को तलाशने के लिए एटीएस की आधा दजर्न टीमें बुधवार को दिन भर छानबीन में जुटी रहीं। बैंक अधिकारियों से लेकर परिवहन अधिकारियों तक पूछताछ हुई। एक दल कुशीनगर के उन ठिकानों की छानबीन भी कर रहा है, जहां का पता आमिर ने अपने पासपोर्ट के आवेदन-पत्र में भरा था।

सूत्रों का दावा है कि तीन संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है, हालांकि इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हो सकी है। लखनऊ में गोमतीनगर, महानगर, उजरियांव, कृष्णानगर, आशियाना के कई संदिग्ध लोगों से एटीएस ने पूछताछ की और कई लोगों के मोबाइल, टेलीफोन नम्बर और ई-मेल आईडी इकट्ठे करने की कवायद भी दिन भर चलती रही। इससे पूर्व हुई आतंकवादियों की गिरफ्तारी या मुठभेड़ में मारे जाने के दौरान जिन लोगों के नाम संदेह के घेरे में आए थे, उनकी भी निगरानी कराई जा रही है।

अपर पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था प्रथम) एके जैन के अनुसार आमिर अली के प्रकरण की जांच अब लखनऊ पुलिस नहीं करेगी। अब यह पूरा मामला एंटी टेरेरिस्ट स्क्वाएड (एटीएस) के सुपुर्द कर दिया गया है। आमिर के स्थानीय सम्पर्क, दस्तावेज कैसे बने? किसने क्या और कैसे मदद की? आमिर ने अपने काम करवाने के लिए लोगों को किस तरीके से उपकृत किया? इस प्रकरण में लखनऊ पुलिस व अभिसूचना इकाई की भूमिका क्या थी? इन सवालों के जवाब खोजने का जिम्मा भी एटीएस को सौंपा गया है। 

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कुशीनगर में एटीएस ने मारे छापे