DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जिला जज-आवास पर तैनात सिपाही ने खुदकुशी की

मुजफ्फरनगर के जिला जज के आवास पर तैनात कांस्टेबल ने मंगलवार रात खुद की सर्विस राइफल से गोली मारकर खुदकुशी कर ली। वह बीते कई दिनों से छुट्टी न मिलने की वजह से परेशान था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सिपाही को दो गोलियां लगने की बात तसदीक होने से मामला पेंचीदा हो गया है।

फिरोजाबाद के सिरसागंज थानाक्षेत्र के गांव सहजनी निवासी हाकिम सिंह यादव का एक माह पहले ही मैनपुरी से मुजफ्फरनगर तबादला हुआ था। 14 नवंबर को उसकी जिला जज अनन्त कुमार के कचहरी स्थित आवास पर ड्यूटी लगी थी। मंगलवार की रात हाकिम सिंह की बारह से तीन बजे तक बंगले के गेट पर ड्यूटी थी। करीब एक बजे जिजा जज के बंगले से दो फायर होने की आवाज आई, तो थोड़ी दूरी पर कचहरी में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मी दौड़कर मौके पर पहुंच गए। बंगले के मेन गेट के बगल में बने कमरे में हाकिम सिंह लहूलुहान हालत में पड़ा था।

सूचना मिलते ही पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और हाकिम को जिला अस्पताल ले जाया गया। हाकिम को दो गोलियां लगी थीं। हालत नाजुक होने के चलते उसे मेरठ रेफर कर दिया गया लेकिन, रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। इस बारे में एसपी सिटी राजीव मल्होत्रा का कहना है कि जांच में यह तथ्य प्रकाश में आया है कि हाकिम सिंह किसी पारिवारिक कारण के चलते तनाव में था और इसके चलते ही उसने यह कदम उठाया। गोली चलने और खुदकुशी करने के कारण के बारे में जिला जज ने भी कोई जानकारी होने से इंकार किया है।

वहीं मेरठ मोर्चरी पहुंची हाकिम की पत्नी गुड्डी ने बताया कि मंगलवार सुबह करीब दस बजे व शाम चार बजे हाकिम का फोन आया था। हाकिम ने गुड्डी को बताया था कि उसने तीन दिन की छुट्टी के लिए प्रार्थना-पत्र आरआई को दिया था लेकिन, उन्होंने छुट्टी से इंकार करते हुए प्रार्थना-पत्र को फाड़कर फेंक दिया। गुड्डी ने बताया कि हाकिम को दो-तीन महीने से वेतन भी नहीं मिला था, जिसकी वजह से घर में काफी परेशानी चल रही थी। हाकिम के तीन बेटे शिवम 14, मनीष 8, अभिषेक 5 व पुत्री शालू 10 वर्ष है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:जिला जज-आवास पर तैनात सिपाही ने खुदकुशी की