DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कल्हा ने गिनाईं कमियां

केंद्रीय योजना आयोग के वरिष्ठ सलाहाकार डीएस कल्हा ने पाया कि केंद्र की कुछ महत्वपूर्ण योजनाओं को पर्याप्त और उचित पर्यवेक्षण नहीं हो रहा है। लेकिन राज्य के मुख्य सचिव ने भी उनके सामने कुंभ के लिए मिलने वाले पैसे को सामान्य बजट में शामिल करने पर एतराज जताया। राज्य सरकार के अफसरों के साथ विचारों व सुझावों के आदान प्रदान के साथ ही डीएस कल्हा दिल्ली के लिए रवाना हो गए।

तीन दिवसीय उत्तराखंड दौरे पर आए केंद्रीय योजना आयोग के वरिष्ठ सलाहाकार डीएस कल्हा ने बुधवार को भी मुख्य सचिव समेत शासन के वरिष्ठ अफसरों के साथ बैठक की। मंगलवार को टिहरी में केंद्र वित्त पोषित योजनाओं का भौतिक सत्यापन करने के बाद आज वह सचिवालय उन्होंने मुख्य सचिव समेत शासन के अफसरों के साथ विचार विमर्श किया। कल्हा ने कहा कि नरेगा, पीएमजीएसवाई, आईसीडीएस और मिड-डे-मील का सही पर्यवेक्षण नहीं हो रहा है।

उन्होंने कहा कि योजनाओं को गति देने के लिए राज्य में पर्यवेक्षण का अभाव देखने को मिला है। इसलिए इनमें तेजी लाए जाने की जरूरत है। कार्यवाहक मुख्य सचिव नृप सिंह नपलच्याल ने राज्य सरकार की मंशा से अवगत कराते हुए इस बात पर एतराज जताया कि आखिर कुंभ मेला के लिए दिए जाने वाले चार सौ करोड़ रुपए को राज्य बजट में शामिल क्यों किया गया। मुख्य सचिव ने यह भी कहा कि कुंभ हर वर्ष होने वाली धार्मिक गतिविधि नहीं है, बल्कि कई वर्ष बाद आयोजित होता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कल्हा ने गिनाईं कमियां