DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मेघालय सरकार अल्पमत में, शक्ति परीक्षण 16 को

मेघालय में गुरुवार को स्वास्थ्य मंत्री एडवाइजर पेरियोंग के इस्तीफे के बाद राजनीतिक संकट और गहरा गया है। इसके चलते अल्पमत में आई मेघालय प्रोग्रेसिव एलायंस (एमपीए) सरकार के सत्ता से हटने और कांग्रेस द्वारा सरकार बनाने का मार्ग प्रशस्त होने के आसार बन गए हैं। स्वास्थ्य मंत्री, पिछले चार दिनों में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(राकांपा)-एमपीए गठबंधन सरकार से इस्तीफा देने वाले चौथे विधायक हैं। इसके साथ ही 60 सदस्यीय सदन में एमपीए सदस्यों की संख्या घटकर 2रह गई है, जबकि कांग्रेस ने 31 विधायकों का समर्थन मिलने का दावा किया है। मुख्यमंत्री दोनकुपर रॉय ने हालांकि आईएएनएस से बातचीत में कहा है, ‘‘सरकार को कोई खतरा नहीं है और हम सोमवार को विधानसभा की बैठक में अपना बहुमत साबित करेंगे।’’ शहरी मामलों के मंत्री पॉल लिंगदोह ने अपना इस्तीफा बुधवार को सौंपा था। जबकि दो निर्दलीय विधायकों लिमिसन संगमा और इस्माइल आर. मराक ने नौ मार्च को हाथ खींच लिया था। इन चारों ने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में विकास कायरे में कमी को अपने इस्तीफे की वजह बताया है। इस बीच नई सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए कांग्रेस में गहन मंत्रणा जारी है। एमपीए के पास इस समय 2विधायकों का समर्थन है। चार विधायकों के एमपीए से नाता तोड़कर कांग्रेस के खेमे में चले जाने से उसके विधायकों की संख्या 27 से बढ़कर 31 हो गई है। पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के नेता डीडी लपांग ने कहा है, ‘‘हम घटनाओं पर नजर रखे हुए हैं और हम जल्द ही कदम उठाएंगे।’’ लपांग ने मार्च 2008 के विधानसभा चुनाव के बाद मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी लेकिन 10 दिन बाद विश्वास मत से पहले ही इस्तीफा दे दिया था। मेघालय में वर्ष 1से 2003 में पांच वर्षो के बीच राज्य में छह गठबंधन सरकारें बनीं । जिनकी वजह से राज्य में चार मुख्यमंत्री बने। मेघालय के 1में पूर्ण राज्य का दर्जा हासिल करने के बाद से केवल दो ही मौकों पर मुख्यमंत्री अपना पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा कर सके हैं।ं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: मेघालय:संकट में सरकार, शक्ति परीक्षण 16 को