DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

राणा पर आरोप तय करने के लिए मिला अधिक समय

राणा पर आरोप तय करने के लिए मिला अधिक समय

शिकागो की एक अदालत ने तहव्वुर हुसैन राणा के खिलाफ अभ्यारोपण दायर करने के लिए संघीय अभियोजकों को 58 दिनों का और समय दिया है। उसे संघीय जांच ब्यूरो ने पिछले महीने भारत और डेनमार्क में बड़ा आतंकवादी हमला करने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया था।

इसके साथ ही एफबीआई को राणा के खिलाफ आरोप दाखिल करने के लिए 14 जनवरी तक का वक्त मिल गया है। कनाडाई नागरिक राणा ने विगत वर्षों में अपने स्कूली साथी डेविड कोलमैन हेडली के साथ भारत का कई बार दौरा किया। हेडली भी उसी आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

अमेरिकी अटॉर्नी पैट्रिक जे फित्जगेराल्ड ने शुक्रवार को इस संबंध में अनुरोध किया था। उनके इस अनुरोध पर ध्यान देते हुए इलेनोइस जिले की अदालत के चीफ जस्टिस जेम्स एफ होल्डरमैन ने राणा के खिलाफ अभ्यारोपण दाखिल करने के लिए 14 जनवरी तक समय बढ़ा दिया।

लश्कर-ए-तय्यबा के संदिग्ध आतंकवादी राणा को एफबीआई ने भारत और डेनमार्क में आतंकवादी हमले को अंजाम देने की साजिश रचने के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसे 19 नवंबर को अदालत के समक्ष पेश किया जाएगा, जब उसकी जमानत याचिका पर सुनवाई होगी।


इससे पहले, 30 अक्टूबर को अदालत ने 49 वर्षीय हेडली के खिलाफ भी इस तरह के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी। अदालत ने हेडली के खिलाफ अभ्यारोपण दाखिल करने के लिए एक जनवरी, 2010 तक समय बढ़ा दी थी।

अभ्यारोपण दाखिल करने के लिए समय बढ़ाने की मांग करते हुए अमेरिकी अटॉर्नी ने कहा कि संघीय अभियोजकों को जांच पूरी करने के लिए और समय की आवश्यकता है। जांच में विभिन्न टेलीफोन और ई-मेल संवाद को पकड़ना शामिल है। इनमें से ज्यादातर विदेशी भाषाओं में हैं।

इसमें कहा गया है कि 18 अक्टूबर को संघीय एजेंटों ने चार विभिन्न स्थानों पर सर्च वारंट पर तामील की। विभिन्न साक्ष्यों के अतिरिक्त कई कंप्यूटर भी जब्त किए गए थे। संघीय एजेंट जब्त कंप्यूटरों समेत उन साक्ष्यों की पड़ताल कर रहे हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:राणा पर आरोप तय करने के लिए मिला अधिक समय