DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्लाइंड छात्रों का परीक्षा शुल्क वापस होगा

सीएसजेएम विश्वविद्यालय की प्राइवेट परीक्षा में अब दृष्टिहीनों को परीक्षा शुल्क नहीं देना पड़ेगा। सोमवार को ब्लाइंड छात्रों के विरोध के बाद मंगलवार को कुलसचिव ने इस बाबत बैंक को पत्र भेज दिए। जिन ऐसे छात्रों को पूरा भुगतान करना पड़ा है, उन्हें यह फीस आवेदन करने और अपना टोकन विवरण देने पर वापस कर दी जाएगी।

विश्वविद्यालय में पहली बार प्राइवेट परीक्षा फार्म ऑन लाइन भराए जा रहे हैं। इसके टोकन बैंक ऑफ बड़ौदा की ब्रांचों से शुल्क लेकर दिए जा रहे हैं। अब तक की व्यवस्था में फार्म खरीदे जाते थे, जिसके साथ शुल्क का ड्राफ्ट लिया जाता था। इसमें दृष्टिहीनों को परीक्षा शुल्क से छूट मिलती थी।

नई व्यवस्था में इन्हें ब्रांचों से शुल्क में छूट नहीं मिल रही थी, जिसके लिए कई ब्लाइंड छात्र सोमवार को कुलसचिव से मिले थे। इन्हें आश्वस्त किया गया था कि अगर एक्ट में यह प्रोवीजन होगा तो शुल्क में छूट दी जाएगी।

विश्वविद्यालय एक्ट पाँच 26 (3) में दिए गए प्राविधानों के आधार पर कुलसचिव ने आदेश जारी किया कि दृष्टिबाधित छात्रों को दिए गए नियमों के अनुसार इन छात्रों को छूट मिलेगी। बैंक ऑफ बड़ौदा को भी इसकी जानकारी दे दी गई है। प्रभावित छात्र ए पाल ने बताया कि वह एमए दूसरे वर्ष का छात्र है। उसे मजबूरन पूरा शुल्क देकर एमए दूसरे साल का टोकन खरीदना पड़ा है।

अब उससे कहा गया है कि अगर वह टोकन संख्या बताते हुए एप्लीकेशन देता है तो विश्वविद्यालय चेक के जरिए उसका शुल्क लौटा देगा। जितने भी दृष्टिबाधित छात्रों को परीक्षा शुल्क छूट का लाभ नहीं मिल पाया है, उन्हें विश्वविद्यालय में आवेदन करना होगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ब्लाइंड छात्रों का परीक्षा शुल्क वापस होगा