DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता फरार तीनों भाई सहित छह गिरफ्तार

शुक्लागंज, आजाद नगर के तबेले की खुदाई के दौरान मंगलवार को तीन और वाहन बरामद हुए। सोमवार रात शुरू हुई खुदाई में तीन गाड़ियाँ बरामद हुई थी। देर रात तक चली खुदाई में पुलिस ने छह गाड़ियों के अलावा कुछ अन्य गाड़ियों के इंजन और पुर्जे भी बरामद किए। तबेले में गाड़ियों के गाड़ने का रहस्य अब तक बरकरार है। कोई यह नहीं समझ पा रहा है कि आखिर बाबूलाल गाड़ियों को जमींदोज क्यों करता था। पुलिस का मानना है कि गाड़ियों के इंजन और पुर्जे खोलने के बाद वह गिरफ्तारी से बचने के लिए खुदाई कर चेचिस और बॉडी जमींदोज कर देता था।

यह भी अनुमान लगाया जा रहा है कि बॉडी काटने वाले गिरोह से सीधा संपर्क न होने से वह गाड़ने का कदम उठाता था। तबेले की खुदाई में गाड़ियाँ निकलने की खबर मोहल्ले में फैलते ही लोग हैरत में पड़ गए। जिसे देखों वह नजारा देखने के लिए घटना स्थल की तरफ दौड़ा जा रहा था। मोहल्ले वालों ने मामले से पूरी तरह अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि परिवार किसी से कोई वास्ता नहीं रखता था, इसलिए किसी का उनके घर आना जाना भी नहीं था। घर पर मौजूद बाबूलाल की माँ ने किसी तरह की टिप्पणी से इनकार करते हुए कहा कि वह कहना नहीं मानता था। पुलिस ने अजय कटियार उर्फ बाबूलाल, बड़े भाई विनय कटियार उर्फ पप्पू और छोटे भाई मनोज कटियार उर्फ दिनेश सहित कुछ छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पिता चंद्रशेखर अब तक फरार है। पुलिसिया पूछताछ में बरामद सभी वाहनों के लूटे जाने का खुलासा हुआ।

सोमवार रात जारी खुदाई में पुलिस ने अब तक एक बोलेरो, एक टाटा मैजिक, एक छोटा हाथी (लोडर), एक टाटा 207, दो बाइक और कुछ गाड़ियों के इंजन और पुर्जे बरामद हुए। गाड़ियाँ चोरी कर जमीन में गाड़ देने के खुलासे के दूसरे दिन मंगलवार को भी पुलिस तबेले की खुदाई कराती रही। खुदाई में और गाड़ियाँ न मिलने से शाम को काम बंद किया गया। किसी तरह का नर कंकाल न मिलने से पुलिस ने राहत की सांस ली। कोई यह नहीं समझ पा रहा था चोरी की गाड़ियों को जमींदोज करने से बाबूलाल को क्या मिलता था।

छापे की सूचना के बाद पिता चंद्रशेखर के साथ बड़ा भाई पप्पू और छोटा भाई दिनेश भी फरार हो गए। पुलिस ने देर रात पप्पू और दिनेश सहित गिरोह के कुछ छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया। सुबह खबर फैलते ही पास पड़ोस के लोग घटना स्थल देखने को उतावले हो गए। दिन भर बाबूलाल के घर के बाहर मजमा लगा रहा। हॉल के अंदर जेसीबी मशीन न घुस पाने से पुलिस ने दूसरे दिन भी मजदूर लगा कर जगह जगह खुदाई कराई। मंगलवार शाम तक चली खुदाई के बाद काम बंद कर दिया गया।

घर पर मौजूद माँ रन्नो देवी ने कहा कि वे मूल रूप से बिल्हौर स्थित अरौल के रहने वाले हैं। पारिवारिक विवाद में आए दिन लड़ाई झगड़ा होने से लगभग दस साल पहले आजाद नगर में मकान बनवा कर रहने लगे। पति चंद्रशेखर के अवाला तीन पुत्र पप्पू, बाबूलाला और दिनेश रहते हैं। दिनेश 10वीं का छात्र है और पिता के साथ पप्पू और बाबूलाल गाड़ी चलाने का काम करते हैं।

चोरी के वाहन लाकर गाड़ने पर चुप्पी साधते हुए रन्नो देवी ने केवल इतना कहा कि शादी के बाद बच्चों बात कहाँ मानते हैं। घटना के बाद से चंद्रशेखर फरार है। पुलिस बाबूलाल सहित पकड़े गए छहों लोगों को उन्नाव कोतवाली में रख कर पूछताछ कर रही है। पूछताछ में गिरफ्तार बदमाशों ने सभी वाहनों के लूटे जाने की बात स्वीकार की।

बाबूलाल के अनुसार वे गाड़ियां बुक करा कर चालक को मारपीट कर बेहोश कर हाथ पैर बांध सड़क किनारे फेंक देते थे और वाहन लूट कर फरार हो जाते थे। पुलिस के हत्थे चढ़ने के बाद थाने से ही छूट जाने पर उनका हौसला और बढ़ गया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पिता फरार तीनों भाई सहित छह गिरफ्तार