DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सपा ने फिर फेंका बाबरी-मस्जिद का पासा

कल्याण सिंह से किनारा करने के बाद समाजवादी पार्टी ने अपने पुराने मुस्लिम वोट बैंक को वापस हासिल करने की पुरजोर कोशिश शुरू कर दी है। पार्टी ने मंगलवार को बाबरी मस्जिद बनाए जाने की मांग उठाते हुए घोषणा की कि यूपी में मुसलमानों के बीच वह इसकी मुहिम चलाएगी कि उनका सच्चा हमदर्द कौन है। सपा या कि कांग्रेस और बसपा। मुहिम की शुरुआत बाबरी मस्जिद ढहाए जाने की बरसी छह दिसम्बर से शुरू होगी।

मुम्बई के सपा विधायक अबू आसिम आजमी के अभिनंदन में यहां हुए समारोह में मुलायम समेत बाकी वक्ताओं को रामपुरी टोपियां पहनाई गईं और कांग्रेस पर जमकर हमले हुए। मांग की गई कि वह मुसलमानों से 1992 में किया गया वह वादा पूरा करे कि बाबरी मस्जिद दोबारा बनाई जाएगी। वक्ताओं ने कहा कि तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव ने तब यह घोषणा की थी। विवादित स्थल को लेकर चल रहा मुकदमा भले चलता रहे लेकिन, पहले बाबरी मस्जिद बननी चाहिए। समारोह में कल्याण सिंह का भी जिक्र यह कहते हुए हुआ कि भाजपा को खत्म करने के लिए सपा ने उनका सदुपयोग किया।

सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव और महासचिव अमर सिंह समेत बाकी प्रमुख नेताओं की मौजूदगी में हुए अभिनंदन समारोह का केन्द्रबिन्दु अबू आजमी थे। हिन्दी में विधायक पद की शपथ लेने को लेकर मनसे विधायकों का निशाना बने आजमी अब सपा का नया मुस्लिम चेहरा होंगे यह भी साफ हो गया। अमर सिंह ने ऐलान किया कि रामपुर समेत यूपी के पांच और जगहों अबू आजमी का सम्मान किया जाएगा। उन्होंने हिन्दी का मान बढ़ाया है। समारोह का उद्देश्य भले ही अभिनंदन था लेकिन, इसके आगाज से ही साफ हो गया कि सपा अब मुस्लिम और बाबरी मस्जिद से जुड़े मुद्दों को नब्बे के दशक वाले तेवरों के साथ ही उठाएगी।

सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव ने कहा कि बाबरी मस्जिद ढहा दी जाएगी इसके प्रति तब की केन्द्र सरकार और राष्ट्रपति को भी सपा ने आगाह किया था। केन्द्र सरकार चेती नहीं और बाबरी मस्जिद ढहा दी गई। कांग्रेस पर बरसते हुए उन्होंने कहा कि पहले भी इस पार्टी ने कहा है कि मुलायम का राजनीतिक वनवास हो गया। तब भी सपा मजबूती से वापस लौटी है। सपा प्रमुख ने कहा कि फिरोजाबाद में मेरी बहू नहीं मेरी हार हुई है। लेकिन, उपचुनावों की हार से पार्टी कतई निराश नहीं है। कांग्रेस के तीन मंत्री भी अपने प्रत्याशियों को नहीं जितवा पाए।

अमर सिंह ने कहा कि कांग्रेस के प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव ने मुसलमानों से वादा किया था कि बाबरी मस्जिद दोबारा बनवा देगी। अभी तक क्यों नहीं बनवाया। मामला अदालत में होने का बहाना बनाया जाएगा लेकिन, जैसे अम्बानी भाइयों के गैस विवाद की तेजी से अदालत में सुनवाई हो रही है, उसी तरह अयोध्या मामले की भी हो। उन्होंने कहा कि कल्याण सिंह भाजपा को कमजोर करना चाहते थे, तो सपा ने उनका सदुपयोग किया। अबू आजमी की भरपूर तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि उनकी हिफाजत और हिन्दी के सम्मान के लिए बाल ठाकरे के पैर छूने से भी परहेज नहीं। सपाइयों से उन्होंने अपील की कि वे गांव-गांव जाकर रहें।

अबू आजमी ने अपने भाषण में राज बब्बर को निशाने पर लेते हुए कहा कि वे मुझे डॉन करार देकर नेताजी से दूर रखते थे। कांग्रेस पर तीखे हमले करते हुए आजमी ने कहा कि मुसलमानों को यह बताने की मुहिम चलेगी कि उनका सच्चा हमदर्द कौन है। समारोह को पूर्व सांसद ओबेदुल्लाह आजमी, सांसद जया बच्चान, प्रदेश सपा के अध्यक्ष अखिलेश यादव, अफरोज अली खाँ और इमाम कौंसिल ऑफ इंडिया के मौलाना मकसूद काजमी ने भी सम्बोधित किया।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सपा ने फिर फेंका बाबरी-मस्जिद का पासा