DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों ने नहीं दिया गन्ना, कैसे शुरू होगी पेराई

निजी चीनी मिलों का 180 के भाव पर 18 नवंबर को पेराई शुरू करने का दावा फुस्स हो गया है। मिलों ने पेराई क्षमता के हिसाब से इंडेंट जारी कर दिया, लेकिन किसानों ने 19 तारीख को दिल्ली में संसद के भीतर और बाहर केंद्र को घेरने की तैयारी को देखते हुए गन्ना नहीं दिया। हालांकि कई मिलों का शुभारंभ के लिए बुधवार को हवन और यज्ञ होना है। ऐसे में चीनी मिलें कागजों पर तो चल जाएंगी, लेकिन पेराई शुरू होने की कोई उम्मीद नहीं है।

सिंभावली शुगर मिल को तो घाटा उठाना पड़ रहा है। मिल ने 14 तारीख से क्रय केंदा्रें पर गन्ने की खरीद शुरू की थी। मिल की प्रतिदिन पेराई क्षमता 60 हजार कुंतल के आस-पास है जबकि चार दिन में किसी तरह से 26 हजार कुंतल गन्ना ही मिल पाया। यह गन्ना बासी हो रहा है और मिल पेराई शुरू नहीं कर पा रही।

दौराला, मवाना और नंगलामल चीनी मिलों ने भी इंडेंट जारी किया हुआ है लेकिन किसी को भी हजार-दो हजार कुंतल गन्ना भी नहीं मिल पाया है। इन चीनी मिलों का बुधवार को हवन और यज्ञ होना है। हालांकि डिप्टी केन कमिश्नर सत्येन्द्र कुमार उम्मीद जताते हैं कि जल्द ही मिलों का पेराई सत्र शुरू हो जाएगा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसानों ने नहीं दिया गन्ना, कैसे शुरू होगी पेराई