DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

इंश्योरेंस प्रीमियम

इंश्योरेंस उत्पादों में कार और ऑटो इंश्योरेंस काफी महत्वपूर्ण होते हैं। कई पॉलिसीधारकों को ऑटो इंश्योरेंस के बारे में जानकारी नहीं होती जिसकी वजह से अकसर वह ज्यादा प्रीमियम दे बैठते हैं चूंकि बाजार में तमाम इंश्योरेंस कंपनियां मौजूद है ऐसे में आपकी पहली प्राथमिकता अपनी जरूरतों पर फिट बैठने वाली कंपनी चुनने की होनी चाहिए। इस काम में थोड़े से ग्राउंड वर्क की जरूरत है।

उपभोक्ताओं की शिकायतों के आधार पर इंश्योरेंस कंपनियों का रिसर्च करें। इसके अलावा ये भी देखें कि कौन सी कंपनी का ट्रेक रिकॉर्ड कैसा है। जहां तक इंश्योरेंस प्रीमियम की बात है तो कई महत्वपूर्ण बातें आपके प्रीमियम को निर्धारित करने में प्रमुख कारक होती है।

- कार इंश्योरेंस का प्रीमियम इस आधार पर भी बढ़ता है कि आपने अपनी गाड़ी में कौन से लग्जरी गैजेट जैसे कि नाइट विजन, अल्ट्रासाउंड सेंसर आदि लगाए हुए हैं।

- अपनी कार में सेफ्टी और एंटी थेफ्ट फीचर जैसै कि एयरबैग, एंटीलॉक ब्रेक की वजह से आपको प्रीमियम बेहतर मिलता है।

-  इंश्योरेंस जैसे कि कार, लॉक आदि के खोने पर प्रीमियम ज्यादा मिलता है।

- अगर आपके पास गैराज है तो आप अपनी कार अंदर पार्क करें। इससे डिस्काउंट बढ़ेगा।

- ड्राइवर को नामित करने या ड्राइवर की उम्र सीमा मुकर्रर करने से आपका प्रीमियम बढ़ सकता है। अपनी इंश्योरेंस पॉलिसी में कम अनुभवी या बहुत युवा ड्राइवर को न रखें। इसका फर्क प्रीमियम पर पड़ सकता है।

- इंश्योरेंस कंपनियां ऐसे पॉलिसीधारको को डिस्काउंट देती है जिनकी उस कंपनी में एक से अधिक पॉलिसी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:इंश्योरेंस प्रीमियम