DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रणजी मैच में फर्जी पास के घुसे युवक

यूपी बनाम बड़ौदा के बीच रणजी मैच के पहले दिन ही वीआईपी स्टैंड में लगभग 15 फर्जी पास पकड़े गए। वीआईपी स्टैंड में फर्जी पास के जरिए घुस आए इन युवकों को लेकर आयोजक कई तरह के कयास लगा रहे हैं। फर्जी पास से भी हैरानगी वाली बात यह कि ये सभी पास मात्र सौ-सौ रूपए में किसी राकेश मिश्र नामक युवक से खरीदे गए थे ,चूंकि आयोजक समति में पदाधिकारी ही राकेश मिश्र हैं लिहाजा राकेश मिश्र को उनके सामने लाया गया तो युवकों ने पहचानने से ही इंकार कर दिया। इससे आयोजक समिति का शक और पुख्ता हो गया,साथ ही पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था के दावे की भी पोल खुल गई।


फर्जी पास मिलने के बाद आयोजक गाजियाबाद क्रिकेट एसोसिएशन (जीसीए ) की नींद उड़ गई हैं। उनका कहना है कि यह सुनियोजित साजिश है,और इसके पीछे मैच का मजा किरकिरा करना अथवा अशांति फैलाने से है। जो कि जांच का विषय है। पहले दिन ही इस तरह की सुरक्षा चूक के बाद सिक्योरिटी गाडोर्ं के अलावा बाउंसरों को और एलर्ट कर दिया गया है। आयोजकोंे ने इसकी सूचना पुलिस के कुछ आला अफसरों को भी दे दीै। फिलहाल आगे किसी भी प्रकार की कार्रवाई के संबंध में विचार किया जा रहा है। जीसीए अध्यक्ष उमेश चौपड़ा व महामंत्री राकेश मिश्र ने बताया कि वर्षा के कारण मैच शुरू नही हो सका,लेकिन दर्शक दीर्घा में दर्शकोंे की संख्या और उनके उत्साह में कोई कमी नहीं थी। वीआइ्रपी स्टैंड में काफी भीड़ हो जेाने के बाद रूटीन में पास चैक कराया गया। बाउंसरों के साथ ही समिति के पदाधिकारी भी पास देख रहे थे। इसी बीच एक के बाद एक करके लगभग 15-16 युवकों के पास से एक ही प्रकार के वीआईपी पास पकड़े गए। ये सभी पास बिल्कुल ही जीसीए के छपवाए वीआईपी पासों से मिलते-जुलते थे। बस कागजों में ही फर्क था। पूछताछ करने पर सभी युवकों ने एक ही राग अलापा।
उनका कहना था कि यह सभी पास राकेश मिश्र से सौ-सौ रूपए भी खरीदे गए। जीसीए के राकेश मिश्र भी वहीं थे। लेकिन युवकों ने उन्हें पहचानने से इंकार कर दिया।
उधर, आयोजक जब तक मामले को समझ पाते,मौका देख सभी युवक खिसक  लिए। जीसीए अध्यक्ष ने बताया कि उनके द्वारा कोई पास नहीं बेचा ही गया,तो किसी और राकेश मिश्र के पास वीआईपी पास जाने का मतलब ही नहीं? उन्होंने आश्ांका जताई कि यह खेल में खलल डालने की साजिश है। इसी वजह से सिर्फ वीआईपी स्टैंड में ग्रुप बनाकर युवकों को भेजा गया था। संभवत: इन्हें मैच के दौरान हो हंगामा के लिए भेजा गया हो? लेकिन भंडाफोड़ हो जाने के बाद आगे आयोजकों के सदस्यों के अलावा पुलिस व प्राइवेट सुरक्षा कर्मियों को सतर्क कर दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:रणजी मैच में फर्जी पास के घुसे युवक