DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीएनजी की अनिवार्यता से पुराने वाहनों पर गाज

एनसीआर में सीएनजी से वाहनों के संचालन की सरकार की घोषणा से हजारों की संख्या में वाहन सड़क से दूर हो जाएंगे। पुराने हो चुके थ्री व्हीलर, सीएनजी की दरों में फर्क को देखते हुए अब हजारों वाहनों के संचालन को रोकना भी एक चुनौती भरा कार्य होगा।


साइबर सिटी में चार से अधिक थ्री व्हीलर शहर के विभिन्न रूटों पर दौड़ रहे है। इनमें से सैकड़ों ऐसे है जो कबाड़ हो चुके है। फिर भी सड़क पर लोगों के जीवन और स्वास्थ्य से खिलवाड़ जारी है। वर्ष 2007-08 से 09 में सर्वाधिक तीन हजार से अधिक थ्री व्हीलरों का पंजीकरण किया गया था। इसमें अधिकांश दिल्ली से रिटायर हो चुके थ्री व्हीलर थे। दूसरी ओर पुरानी हो चुके कारें का भी कामर्शियल उपयोग किया जा रहा है। प्रशासन ने ऐसे वाहनों के लिए कोई गाइड लाइंस नहीं बनाई है। इससे हजारों की संख्या में वाहन सड़कों पर दौड़ रहे है।


पर्यावरण मंत्री कैप्टन अजय सिंह ने गुड़गांव व दिल्ली से सटे शहरों में सीएनजी गैस से वाहन चलाने की घोषणा कही हुई है ताकि पर्यावरण को बेहतर किया जा सके। मंत्री के अनुसार सभी सर्वाजनिक वाहनों के लिए सीएनजी अनिवार्य किया जाएगा। सरकार के नए आदेश के बाद हजारों वाहनों के लिए रूट पर चलना आसान नहीं होगा। इसके लिए उन्हें किट लगावानी होगी। इसकी कीमत 25 से 30 हजार रूपये होने की वजह से वाहन मालिकों की परेशानियां भी बढ़ जाएंगी। शहर में मात्र तीन सीएनजी फिलिंग स्टेशन होने की वजह से भी वाहनों में सीएनजी फिलिंग के लिए लोगों का इंतजार और बढ़ जाएगा। थ्री व्हीलर्सा एसोसिएशन के अध्यक्ष के अनुसार सरकार को समूचित रूप से गैस की व्यवस्था करने के बाद ही इस तरह का निर्णय लेना चाहिए।


साइबर सिटी में फिलहाल तीन जगहों पर सीएनजी गैस फिलिंग कराने की सुविधा है। हरियाणा रोडवेज की चार दजर्न से अधिक बसें सीएनजी गैस लेने के लिए बल्लभगढ़ प्रतिदिन जाना पड़ता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीएनजी की अनिवार्यता से पुराने वाहनों पर गाज