DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

युद्ध पर धन लुटा रहे अमेरिका में 2008 में हर सातवें घर में भूख की छाया

युद्ध पर धन लुटा रहे अमेरिका में 2008 में हर सातवें घर में भूख की छाया

इराक और अफगानिस्तान में युद्ध पर करोड़ों डॉलर खर्च कर रहे और आतंकवाद से लड़ने के नाम पर पाकिस्तान को करोड़ों डॉलर की सहायता राशि देने वाले अमेरिका के हर सातवें घर में पिछले साल भूख की छाया रही।

मंदी से प्रभावित अमेरिका में पिछले वर्ष हर सातवें घर में हमेशा पर्याप्त भोजन उपलब्ध नहीं था, जो जीवन की मूल आवश्यकता है। सरकार द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों से यह जानकारी मिली है। अमेरिकी कृषि विभाग ने कहा कि वर्ष 2008 में भूख दर 14.6 प्रतिशत रही।

इसका अर्थ हुआ कि अमेरिका के करीब पांच करोड़ लोगों को साल के दौरान खाद्य असुरक्षा का सामना करना पड़ा क्योंकि पूरे परिवार को पर्याप्त भोजन उपलब्ध कराने के लिए धन नहीं था।

इनमें से करीब दो तिहाई लोगों को कम विविधतायुक्त भोजन या सरकारी सहायता कार्यक्रम पर गुजारा करना पड़ा, वहीं एक तिहाई लोगों को वास्तव में भोजन की कमी का सामना करना पड़ा।

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी इसे बहुत दर्दनाक कहा था। मंदी के दौरान सरकारी खाद्य कूपनों की मांग सबसे अधिक है। उल्लेखनीय है कि अमेरिका में दिसम्बर 2007 में शुरू हुई मंदी से 80 लाख से अधिक अमेरिकी अपनी नौकरी खो चुके हैं। ये आंकड़ें 44,000 घरों के सर्वेक्षण पर आधारित हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:अमेरिकाः 2008 में हर सातवें घर में भूख की छाया