DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

किसानों के साथ धोखाधड़ी, अनुदानित बीज ले उड़े दबंग

सरकार ने अनुदानित दर पर बीज दिया किसानों को बांटने के लिए लेकिन, लूट लिया दबंगों ने। कोई जोर जबरदस्ती भी नहीं करनी पड़ी। अधिकारियों को मेल में किया और उठा ले गए सैकड़ों किसानों के नाम पर बीज। हड़बड़ी इतनी कि किसी ने फार्म पर हस्ताक्षर नहीं बनाया तो कोई बिना फार्म भरे ही ले गया बीज।

अब जरा अधिकारियों की कार्यशैली देखिए, उन्होंने सादे फार्म पर ही किसान की तस्वीर चिपकाकर उसपर अपना हस्ताक्षर बना दिया।  लेकिन किस्मत खाराब थी जो मामले की शिकायत कृषि मंत्री रेणु कुमारी तक पहुंच गई। मंत्री ने जांच की तो किसानों के साथ धोखाधड़ी का तो खुलासा हुआ ही शिकायतकर्ता अरुण कुमार यादव भी फंस गए। उन्होंने भी फार्म भरे बिना ही बीज उठा लिया। उन्हें क्या पता था कि मंत्री उनकी भी जांच करेंगी। खुद सत्ताधारी दल के प्रदेश महासचिव जो ठहरे। यह मामला तो खगड़िया जिले से जुड़ा है लेकिन, अधिसंख्य जिलों में अनुदानित दर पर बीज बांटने का यही तरीका अपनाया गया है। कई जिलों में तो व्यापारियों ने किसानों के नाम पर अनुदानित दर पर बीज उठाया और किसानों से पूरी कीमत वसूल कर बेच दी।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन के तहत राज्य सरकार ने किसानों को अनुदानित दर पर बीज देने की योजना शुरू की है। बीज जिलों में भेजे गए। प्रावधान के अनुसार जिला कृषि पदाधिकारी या उनके द्वारा नामित किसी अधिकारी को किसानों को परमिट देने का अधिकार दिया गया। परमिट दिखाकर किसान सरकार द्वारा अधिकृत दुकान से बीज ले सकते हैं। योजना किसानों को सस्ते दर पर बीज देने के लिए बनी लेकिन, इस योजना की सच्चई यह है कि अधिकृत दुकानदार और अधिकारियों ने मिलीभगत कर बीज को पूरी कीमत वसूल कर किसानों के हाथों बेच दिया और फर्जी किसानों के नाम पर परमिट बना कर जमा कर दिए। खगड़िया जिले में तो एक-एक किसान ने दजर्नों किसानों के नाम की परमिट जमा कर दी। छोटे किसान तो मारे-मारे फिरते रहे लेकिन, दबंग भी इस बहती गंगा में हाथ धोने से बाज नहीं आए। हद तो यह है कि एक ही किसान सरकारी फार्म पर अंगूठे का निशान लगाता है और वही दुकानदार के वाउचर पर अपना हस्ताक्षर बनाता है।

कृषि मंत्री डॉ. रेणु कुमारी के अनुसार, खगड़िया में बीज वितरण में गड़बड़ी पाई गई तो अधिकृत विक्रेता और प्रखंड कृषि पदाधिकारी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करा दी गई है। जहां भी शिकायत मिली है, मैंने खुद जांच की है। अधिकारियों को भी निर्देश दिया गया है कि वे इस योजना की जांच हर जिले में करें और जहां गड़बड़ी मिले कार्रवाई करें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:किसानों के साथ धोखाधड़ी, अनुदानित बीज ले उड़े दबंग