DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

घूस लेते धरा गया डीएलसी

लेबर लाइसेंस बनाने की एवज में एक निजी कंपनी के मैनेजर से घूस ले रहे उप श्रमायुक्त डी. लाल को विजिलेंस टीम ने सोमवार को उनके कार्यालय में ही रंगे हाथों पकड़ लिया। उप श्रमायुक्त मैनेजर से घूस में 15 हजार रुपये ले रहे थे।

सिडकुल में श्रमिक सप्लाय करने वाली पंतनगर स्थित इण्टीग्रेटेड कारपोरेट सोल्यूसन्स कंपनी के मैनेजर कमाण्डर सिंह नयाल ने 11 नवंबर को विजिलेंस थाने में उप श्रमायुक्त, हल्द्वानी डी. लाल के घूस मांगने की शिकायत की थी। मैनेजर नयाल का आरोप था कि लेबर लाइसेंस बनवाने के लिए डीएलसी ने 20 हजार रुपये मांगे। सौदा 15 हजार रुपये में तय हुआ।

एसपी विजिलेंस आरपी शर्मा ने पत्रकारों को बताया कि कंपनी मैनेजर की शिकायत की जांच में सही पाई गई। सोमवार दोपहर मैनेजर नयाल ने श्रम कार्यालय में बैठे उप श्रमायुक्त डी. लाल को जैसे ही 15 हजार रुपये की रकम दी, वहां मौजूद विजिलेंस टीम ने उन्हें दबोच लिया। एसपी विजिलेंस शर्मा ने बताया कि आरोपी उप श्रमायुक्त के विरुद्ध 7 /13 (1) डी सपठित 13 (2) भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 के तहत रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

प्रदेश के विजिलेंस निदेशक विजय राघव पंत ने विजिलेंस टीम को 5 हजार रुपये बतौर पुरस्कार देने की घोषणा की है। ट्रैप टीम में इंस्पेक्टर डंगवाल, थपलियाल के अलावा इंस्पेक्टर अजय ध्यानी, कांस्टेबल नागेन्द्र भट्ट, विनोद कुमार शामिल थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:घूस लेते धरा गया डीएलसी