DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मध्यमा परीक्षा के रिजल्ट में छात्रों ने बाजी मारी

मध्यमा परीक्षा का परिणाम आखिरकार बिहार संस्कृत शिक्षा बोर्ड ने प्रकाशित कर दिया। कोर्ट के आदेश के कारण पूरा रिजल्ट प्रकाशित नहीं किया जा सका। अभी भी बोर्ड के लगभग 30 हजार बच्चों को रिजल्ट के लिए इंतजार करना पड़ेगा। हालांकि बोर्ड ने लगभग 44 हजार छात्र-छात्राओं का रिजल्ट प्रकाशित कर दिया है। इसमें छात्रों ने छात्राओं के मुकाबले बेहतर रिजल्ट हासिल किया है। परीक्षा में 60.36 फीसदी छात्रों ने सफलता प्राप्त की है। इसमें प्रथम श्रेणी से पास करने वाले छात्रों का प्रतिशत 6.72 फीसदी रहा।

मध्यमा परीक्षा 2009 में कुल 74 हजार 400 छात्रों ने भाग लिया था। पटना उच्च न्यायालय के आदेश के कारण 44 हजार 40 छात्रों का रिजल्ट प्रकाशित किया गया है। मध्यमा परीक्षा में इस वर्ष 1036 मुस्लिम छात्रों ने भी भाग लिया और इसे बोर्ड सकारात्मक रूप में ले रहा है। बोर्ड ने पहली बार रिजल्ट को वेबसाइट पर प्रकाशित किया है।

रिजल्ट का प्रकाशन करते हुए बोर्ड के अध्यक्ष सिद्धेश्वर प्रसाद ने कहा कि कदाचारमुक्त व स्वच्छ परीक्षा व कॉपियों के मूल्यांकन के बावजूद छात्रों के पास करने का प्रतिशत अच्छा रहा है। साथ ही उन्होंने बताया कि पहली बार संस्कृत बोर्ड ने मध्यमा परीक्षा के रिजल्ट के साथ दिए जाने वाले अंक पत्र व प्रमाण पत्रों में छात्रों का फोटो स्कैन कर लगाने का निर्णय लिया है। इससे किसी भी प्रकार के कदाचार पर अंकुश लग सकेगा। अध्यक्ष ने कहा कि पटना उच्च न्यायालय के अंतरिम आदेश के अनुपालन में अभी केवल प्रस्वीकृत संस्कृत विद्यालयों का रिजल्ट जारी किया गया है, जिसमें 429, 223 व 86 कोटि के स्कूल शामिल हैं। आदेश के तहत 3776 व 711 कोटि के प्रस्तावित स्कूलों के रिजल्ट तब तक लंबित रखे जाएंगे जब तक बोर्ड द्वारा उनकी प्रस्वीकृति की सभी प्रक्रियाएं पूरी नहीं कर ली जाती हैं। बोर्ड ने पहली किस्त में पांच सौ स्कूलों की संचिकाएं संबंधित डीएम को भेज दी हैं, जबकि एक हजार स्कूलों की संचिकाओं को जिलों में भेजने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।

डीएम की रिपोर्ट आने के बाद उसकी स्कूटनी होगी और कुछ विद्यालयों का निरीक्षण भी किया जाएगा। सब ठीक पाए जाने पर प्रस्वीकृत स्कूलों की सूची मानव संसाधन विकास विभाग के पास अनुमोदन के लिए भेजी जाएगी। प्रक्रिया में विलंब को देखते हुए बोर्ड ने छात्र हित में कोर्ट से रिजल्ट जारी करने की अनुमति प्राप्त करने के लिए वकील को आवश्यक निर्देश जारी किए हैं। छात्र अपना रिजल्ट वेबसाइट पर देख सकते हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:मध्यमा परीक्षा के रिजल्ट में छात्रों ने बाजी मारी