DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पलवल को मिलेगा यूपी की शुगर मिल का फायदा

गन्ने की आवक कम और घाटे में चल रही छाता शूगर मिल को यूपी सरकार ने बंद कर दिया। ऐसे में पलवल शुगर मिल इसका फायदा उठाने में जुट गई है। प्रबंधन की नजर यूपी के छाता क्षेत्र में होने वाले गन्ने पर है। उसे पलवल मिल में लाने की कवायद शुरू कर दी गई है।

पलवल शुगर मिल के कैन प्रबंधक केएस ढाका के नेतृत्व में तीन टीमें बनाई हैं, जो यूपी के किसानों से संपर्क साधने में लगी हुई है। वहां के किसानों को अपना गन्ना पलवल शुगर मिल में लाकर बेचने को कहा जा रहा है। गन्ना उत्पादन कम होने से पलवल शुगर मिल इस बार मुश्किल से 35 दिन चल पाएगी। ऐसे में मिल प्रबंधन गन्ना लाने की व्यवस्था में जुटा हुआ है। गन्ना का उत्पादन कम होने से यूपी की छाता शूगर मिल बंद कर दी गई है। इस बार इस मिल से चीनी का उत्पादन नहीं किया जाएगा। रविवार को कांग्रेस ने इस मिल को बंद करने का छाता में विरोध किया। छाता शुगर मिल समिति के एक सदस्य ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि इलाके में अभी भी करीब 25 सौ हेक्टेयर गन्ना है। बावजूद इसके मिल बंद कर दिया गया। इससे किसानों को भारी नुकसान होने की आशंका है।

उधर, पलवल शुगर मिल प्रबंधन इसका लाभ उठाने को प्रयासरत हैं। मिल के कैन मैनेजर ढाका ने बताया कि छाता मिल बंद रहने से यूपी के किसानों का गन्ना आसानी से खरीदा जा सकेगा। इसके लिए प्लॉनिंग की जा रही है। क्षेत्र के हिसाब से किसानों से संपर्क साधने के लिए कमेटियां बनाई गई हैं, ताकि छाता क्षेत्र के किसान अपना गन्ना उनके यहां लाकर बेच सकें। इससे पलवल शुगर मिल को काफी लाभ होने की उम्मीद है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:पलवल को मिलेगा यूपी की शुगर मिल का फायदा