DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गलत ऑपरेशन करने वाला डॉक्टर जांच के घेरे में

सरकारी अस्पस्ताल में पैर की जगह तालू का ऑपरेशन करने वाला डॉक्टर जांच के घेरे में आ गया है। इस मामले के सार्वजनिक होने पर इसे गंभीरता से लेते हुए सीएमओ ने एसएमओ के नेतृत्व में डॉक्टरों का तीन सदस्यीय एक कमेटी गठित कर दी है। पूरे मामले की जांच कर मंगलवार को रिपोर्ट सौपना है। उधर, सफदरजंग अस्पताल में इलाज करा रहे बच्चे की हालत में पहले से अब सुधार आया है, जबकि पैर का रोग जस का तस है।

सीहा गांव के अशोक के 7 माह के बच्चे ध्रूव के पैर में जख्म सा हो गया था। उसका पैर घुटने से नीचे नीला पड़ गया है। इसका इलाज कराने उसके परिजन पलवल के उसे सरकारी अस्पताल लाए थे। 13 नवंबर को ऑपरेशन की तारीख निर्धारित की गई।  बच्चे के परिजनों का आरोप है कि किसी दूसरे बच्चे के तालू का ऑपरेशन होना था। एक डॉक्टर की लापरवाही से ध्रूव के पैर की जगह तालू का ऑपरेशन कर दिया गया। स्थिति तब बेकाबू हो गई, जब ऑपरेशन के बाद बच्चे के मूंह से खून नहीं रुक रहा था। आनन-फानन में डॉक्टरों ने बच्चे को सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया। 

इस समय बच्चा सफदरजंग अस्पताल के ईएंडटी वार्ड नंबर-17 में दाखिल है। बच्चे के मूंह से खून आना बंद हो गया है, जबकि दाएं पैर में अभी भी सूजन है। डॉक्टर उसके पुराने रोग को छोड़कर तालू के इलाज में लगे हुए हैं। बच्चे की मां का कहना है कि उसके बेटे के तालू में कोई परेशानी नहीं थी। उसके पैर में तकलीफ थी। जिसका डॉक्टरों को ऑपरेशन करना था। इस घटना के बाद से अस्पताल में दाखिल मरीज अपने इलाज को लेकर सशंकित हैं।

पलवल सीएमओ आदित्य राज ने बताया कि बच्चे का ऑपरेशन ईएंडटी डॉक्टर वाईपी सिंह ने किया। डॉक्टर सिंह के मुताबिक बच्चे के तालू में भी प्रॉब्लम थी। इसके चलते उसका ऑपरेशन किया गया। मामले की सच्चाई जानने के लिए जांच कमेटी गठित कर दी गई है। रिपोर्ट मंगलवार तक आ जाएगी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:गलत ऑपरेशन करने वाला डॉक्टर जांच के घेरे में