DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ठाकरे का बयान गैरजरूरी, दर्ज हो मामलाः बीसीसीआई

ठाकरे का बयान गैरजरूरी, दर्ज हो मामलाः बीसीसीआई

मुंबई पर बयान को लेकर सचिन तेंदुलकर की आलोचना करने वाले बाल ठाकरे को आड़े हाथों लेते हुए बीसीसीआई ने कहा कि शिवसेना प्रमुख के खिलाफ मामला दर्ज करना चाहिए क्योंकि इस चैम्पियन बल्लेबाज के खिलाफ उनके वाक प्रहार सरासर गैर जरूरी हैं ।

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 20 बरस पूरे करने के मौके पर मीडिया से बातचीत में तेंदुलकर ने कहा था, मैं मराठी हूं और मुझे इसका फख्र है। लेकिन पहले मैं भारतीय हूं और मुंबई सभी भारतीयों की है।

ठाकरे ने इस पर कहा कि सचिन को ऐसे बयान देने की जरूरत नहीं थी। इन बयानों के जरिए वह मराठी मानसिकता की पिच पर रन आउट हो गए हैं। बीसीसीआई ने ठाकरे के बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते की है। बोर्ड की वित्त समिति के प्रमुख और प्रवक्ता राजीव शुक्ला ने कहा कि शिवसेना प्रमुख मोहम्मद अली जिन्ना की तरह बात कर रहे हैं ।

उन्होंने कहा कि इस तरह के बयान पूरी तरह से अवांछित हैं। शिव सेना को इस तरह की बात करने की कोई जरूरत नहीं है। तेंदुलकर राष्ट्रवादी हैं। वह सिर्फ महाराष्ट्र के नहीं बल्कि पूरे देश के हैं। यदि कोई खुद को भारतीय कहता है तो क्या यह गुनाह है।


शुक्ला ने कहा कि यदि शिवसेना ऐसे बात करेगी तो कोई मराठी उसके साथ नहीं होगा। तेंदुलकर ने एक भारतीय, एक राष्ट्रवादी की तरह बात की है। उन्हें यह समझ में नहीं आता। कुछ वोट पाने के लिए वे लोगों की भावनाओं को भड़काते हैं। इन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मराठी लोगों को ऐसी बातें पसंद नहीं। कुछ लोग ही इसमें साथ देंगे। मराठी लोग भी पहले भारतीय कहलाना चाहते हैं। शुक्ला ने कहा कि ठाकरे मोहम्मद अली जिन्ना की तरह बोल रहे हैं। शिव सेना और राज ठाकरे की पार्टी के कुछ नेताओं को छोड़कर बाकी सारे मराठी सचिन के साथ हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ठाकरे का बयान गैरजरूरी, दर्ज हो मामलाः बीसीसीआई