DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कनिष्ठ चिकित्सकों की हड़ताल जारी, 71 मरीजों की मौत

मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) तथा दरभंगा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (डीएमसीएच) के कनिष्ठ चिकित्सकों (जूनियर डॉक्टरों) की हड़ताल सातवें दिन भी जारी रही। हड़ताल के दौरान अब तक 71 मरीजों की मौत की खबर है।

वैकल्पिक व्यवस्था के तहत अतिरिक्त चिकित्सकों की तैनाती के बावजूद इन अस्पतालों में जूनियर डॉक्टरों के हड़ताल पर चले जाने के कारण चिकित्सा व्यवस्था पूरी तरह चरमरा गई है। हड़ताल की अवधि में पीएमसीएच में अब तक 71 मरीजों की मौत की खबर है। उधर पीएमसीएच प्रशासन अब तक 47 तथा डीएमसीएच प्रशासन 5 मरीजों की मौत को स्वीकार कर रहा है।

पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के महासचिव डॉ धनंजय कुमार ने कहा कि जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल सातवें दिन में प्रवेश कर गई है। उन्होंने कहा कि राज्य स्वास्थ्य सेवा संघ ने भी हड़ताल को समर्थन देने की बात कही है।

डीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ प्रभात ने बताया कि अगर उनकी मांग शीघ्र नहीं मानी गईं तो अन्य मेडिकल कॉलेजों के जूनियर डॉक्टर भी हड़ताल पर चले जाएंगे।

पीएमसीएच के उपाधीक्षक डॉ आर के सिंह ने कहा कि वैकल्पिक व्यवस्था के तहत अब तक 116 चिकित्सकों ने योगदान दिया है तथा काम शुरू कर दिया है। उन्होंने दावा किया कि पीएमसीएच के वार्डों में भर्ती मरीजों को बेहतर इलाज मुहैया कराई जा रही है।

राज्य मानवाधिकार आयोग ने हड़ताली चिकित्सकों को काम पर लौटने के बाद अपनी मांगों को सरकार के सामने रखने को कहा है। राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष जस्टिस एस एन झा ने बताया कि आयोग ने राज्य के स्वास्थ्य सचिव को भी इस मामले में तलब किया है।

उल्लेखनीय है कि पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर 13,000 रुपये के मानदेय को 25,000 से 30,000 तक करने की मांग को लेकर और डीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर गुरुवार से बेमियादी हड़ताल पर हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:कनिष्ठ चिकित्सकों की हड़ताल जारी, 71 मरीजों की मौत