DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सीआईएसएफ खंगाल रही सीसीटीवी डाटा

सीआईएसएफ लश्कर-ए-तैयबा के आतंकी डेविड हेडली को लेकर चौकन्नी हो गई है। ताजमहल में लगे सीसीटीवी कैमरे के एक साल पुराने डॉटा खंगालने में जुट गई है। चिपों की पड़ताल करने में ही लगभग दो माह का समय लग जाएगा। सीआईएसएफ के पास मात्र एक साल पुराना ही रिकॉर्ड है। उसमें भी कुछ चिपें ऐसी हैं, जिन्हें दूसरे डाटा से ओवर राइट कर दिया गया है। इसलिए कुछ चिपों पर ही काम किया जा सकेगा। इसके लिए विभाग के ही दो लोगों से चिप का परीक्षण कराया जा रहा है।

विभागीय सूत्रों के अनुसार चिप से रिकॉर्ड खंगालने में डेढ़ से दो माह का समय लग जाएगा। उनका यह भी कहना है कि वह अपनी संतुष्टि के लिए इसका परीक्षण करा रहे हैं। वैसे हेडली के ताजमहल देखने आने की खबर तीन साल पहले की है। ताजमहल में लगे सीसीटीवी कैमरों में रेड जोन (ताज का अंदरूनी हिस्सा) की गतिविधियों को रिकॉर्ड करने के लिए एक माह तक का रिकॉर्ड रह सकता है।

इस चिप को बाद में ओवर राइट भी कर लिया जाता है। अतिगोपनीय दस्तावेज होने के कारण सीआईएसएफ अधिकारियों द्वारा इस परीक्षा को गुप्त ही रखा जा रहा है। पूर्वी, पश्चिमी और दक्षिणी गेट पर लगे कैमरों को दुरुस्त करा दिया गया है। उन्हें भी चेक करा लिया गया है। कुछ दिनों पहले पश्चिमी गेट के कैमरा टूटकर गिर गया था। अब इसे भी ठीक कर लगा दिया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:सीआईएसएफ खंगाल रही सीसीटीवी डाटा